दो मुखी रुद्राक्ष में होता है साक्षात शिव और पार्वती का वास

do mukhi rudrakshaदो मुख वाले रुद्राक्ष में दो धारियां होती हैं। यह रुद्राक्ष अर्धनारीश्वर स्वरुप है। यह भगवान शिव और शक्ति का रुप माना जाता है। इसे धारण करने से भगवान शिव और माता पार्वती दोनों खुश होते हैं और उनका आशीर्वाद धारण करने वाले को मिलता है। दो मुखी रुद्राक्ष गोहत्या के पाप से मुक्ति दिलाता है और यह ​मस्तिष्क को संतुलित रखता है। इसको धारण करने से मनुष्य की बुद्धि तेज और जाग्रत होती है और घर में हर तरह की सुख सुविधा का उपलब्ध होती है तथा समृद्धि का वास होता है। इसको पहनने से पति पत्नी में एकरुपता का भाव पैदा होता है। यह रुद्राक्ष श्रद्धा और विश्वास का स्वरुप माना गया है। यह व्यापार, कार्य में सफलता दिलाता है। दो मुखी रुद्राक्ष सांसारिक समृद्धि की प्राप्ति कराता है और घर में क्लेश हमेशा के लिए समाप्त होता है और सकारात्मक उर्जा का वास होता है।

दो मुखी रुद्राक्ष में साक्षात शिव-पार्वती का वास होता है। शिवपुराण के अनुसार दो मुखी रुद्राक्ष बेहद दुर्लभ और कल्याणकारी रुद्राक्ष है। दो मुखी रुद्राक्ष को देवेश्वर भी कहा जाता है।
दो मुखी रुद्राक्ष के फायदे (Effects of Rudraksha)
* दो मुखी रुद्राक्ष दांपत्य जीवन को सुखमय बनाने के लिए लाभकारी होता है।
* दो मुखी रुद्राक्ष झगडों या कर्ज से मुक्ति, गृह क्लेश और समाज में सम्मान दिलाता है।
* यह कामनाओं को पूरा तथा उचित फल देने वाला रुद्राक्ष है।
* यह रुद्राक्ष कई तरह की शारीरिक बीमारियों जैसे मोटापे, हृद्य दोष आदि से मुक्ति दिलाता है।
* कर्क राशि के जातकों के लिए दो मुखी रुद्राक्ष लाभकारी है।
दो मुखी रुद्राक्ष का मंत्र (Do Mukhi Rudraksha Mantra in Hindi)
* दो मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का आसान मंत्र “ऊं नम:” (Om Namah) है।

नोट: दो मुखी रुद्राक्ष गौरी-शंकर रुद्राक्ष से अलग होता है।

दो मुखी रुद्राक्ष को मंगाने के लिए यहां क्लीक करें…

एक मुखी रुद्राक्षदो मुखी रुद्राक्षतीन मुखी रुद्राक्षचार मुखी रुद्राक्षपांच मुखी रुद्राक्ष

छह मुखी रुद्राक्षसात मुखी रुद्राक्षआठ मुखी रुद्राक्षनौ मुखी रुद्राक्षदस मुखी रुद्राक्ष

ग्यारह मुखी रुद्राक्षबारह मुखी रुद्राक्ष तेरह मुखी रुद्राक्षचौदह मुखी रुद्राक्ष

समस्या है तो समाधान भी है। फ्री ज्योतिषीय परामर्श। यहां क्लीक करें।