जन्मकुंडली

जन्मकुंडली, आपके जन्म की तिथि व समय पर ग्रहों की स्थिति के आधार पर तैयारी की गई रिपोर्ट होती है । जन्मकुंडली के द्वारा आपके जीवन के सभी पहलुओं पर भविष्यवाणी व जीवन की सारी मुश्किलों के उपाय जाने जाते हैं ।

 
Ganesha Voice

जन्मकुंडली

 जन्मकुंडली ज्योतिषीय क्षेत्रों में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है , खासकर जब वैदिक ज्योतिष की बात आती है । यह जीवन में सितारों और ग्रहों की चाल के विश्लेषण के माध्यम से व्यक्ति के करियर, शिक्षा, प्रेम जीवन, व्यक्तित्व और आभा को दर्शाता है। इसके पास सभी समस्याओं का समाधान है। प्रत्येक व्यक्ति के लिए जन्मकुंडली एक ऐसी महत्वपूर्ण पत्री है जिसके माध्यम से उसके जीवन में आने वाली समस्याओं को हल किया जा सकता है । जन्मकुंडली को उस व्यक्ति के जन्म समय और तिथि के अनुसार बनाया जाता है जो परिणामों को मान्यता देता है ।

जन्मकुंडली क्या है?

जन्मकुंडली एक पत्रिका है जिसे एक व्यक्ति के जन्म के समय व तिथि के आधार पर बनाया जाता है। इसके माध्यम से वह व्यक्ति अपने जीवन में होने वाली प्रत्येक स्थिति का जानकार बन सकता है । यह मूल रूप से वैदिक ज्योतिष शास्त्र पर आधरित होता है। इसमें व्यक्ति के जन्म के समय उस समय बन रही ग्रहों की दशा का संचालन किया जाता है। इसमें 12 विभिन्न भाव होते है । सरलता से जाने तो इसमें ग्रहों की स्थिति , दशा विश्लेषण, कुंडली में बनने वाले दोष व उनके उपायें का समावेश किया जाता है।

क्यों जरुरी है जन्मकुंडली?

हम सभी चाहतें है की हमें सदैव सफलता के मार्ग पर चले परन्तु यह मार्ग दर्शन कौन करेगा यह जानना जरुरी नहीं समझतें। किसी भी मौकें को अपनाने के लिए सही समय का होना बहुत जरुरी है नहीं तो बनते कार्य भी बिगड़ जातें है। सफलता के रास्तें पर आगे बढ़ने के लिए अपनी कुंडली में ग्रहों की स्थिति व दशा को जानना अतिआवश्यक होता है । जन्मकुंडली के माध्यम से ग्रहों का विवेचन किया जा सकता। इसकी सहायता है व्यक्ति अपने महत्वपूर्ण निर्णय जैसे की विवाह , करियर ,पढ़ाई ,नौकरी और व्यापार के बारें में भी बहुत कुछ जान सकता है।

जन्मकुंडली कब बनवानी चाहिए?

जन्मकुंडली व्यक्ति को अपने जीवन के प्रमुख निर्णय को लेने में सहायक होता है। इसके माध्यम से वह अपने भविष्य के लिए तैयार हो सकता है। जन्मकुंडली द्वारा लिए गए निर्णय व्यक्ति को उच्चाईओं की और लेकर जातें है।

%d bloggers like this: