chandra grahan 1 ganeshavoice.in चंद्र ग्रहण 19 नवंबर को, इस राशि के लोग सबसे ज्यादा होंगे प्रभावित Chandra Grahan 2021
ज्योतिष जानकारी राशिफल व्रत एवं त्यौहार

चंद्र ग्रहण 19 नवंबर को, इस राशि के लोग सबसे ज्यादा होंगे प्रभावित Chandra Grahan 2021

Chandra Grahan 2021 : वर्ष 2021 का दूसरा चंद्र ग्रहण 19 नवंबर को लगने वाला है। खास बात तो यह है कि चंद्र ग्रहण भारत में भी दिखाई देगा। हालांकि साल का दूसरा चंद्र ग्रहण आंशिक रूप से लगेगा। 19 नवंबर को सुबह 11.34 बजे से शुरू होकर यह शाम 05.33 बजे समाप्त होगा। ये आंशिक चंद्र ग्रहण होगा, जो भारत समेत यूरोप और एशिया के अधिकांश हिस्सों में, ऑस्ट्रेलिया, उत्तर-पश्चिम अफ्रीका, उत्तरी और दक्षिणी अमेरिका, प्रशांत महासागर में दिखाई देगा। भारत में यह चंद्र ग्रहण उपच्छाया ग्रहण के रूप में दिखेगा इसलिए इसका सूतक काल मान्य नहीं होगा।

chandra grahan 1 ganeshavoice.in चंद्र ग्रहण 19 नवंबर को, इस राशि के लोग सबसे ज्यादा होंगे प्रभावित Chandra Grahan 2021

जीवनसाथी की तलाश हुई आसान! फ्री रजिस्ट्रेशन करके तलाश करें अपना हमसफर

समस्या है तो समाधान भी है, विद्वान ज्योतिषी से फ्री में लें परामर्श

चंद्र ग्रहण का वैज्ञानिक के साथ-साथ धार्मिक महत्व भी है। वैज्ञानिकों के अनुसार यह एक खगोलीय घटना है, जब पृथ्वी सूर्य और चांद के बीच आ जाती है तो चंद्रमा पर प्रकाश पड़ना बंद हो जाता है, जिसे चंद्र ग्रहण कहते हैं। वहीं धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ग्रहण लगना अशुभ माना जाता है, क्योंकि इसका पृथ्वी के सभी जीव-जंतुओं पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

Diwali 2021 : गाय के गोबर से बने दीयों से जगमगायेगी दीपावली

इन राशियों पर लगेगा चंद्र ग्रहण: 19 नवंबर 2021, मंगलवार को कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि है। इस दिन वृषभ और कृतिका नक्षत्र में चंद्र ग्रहण लगेगा, जिससे इस राशि और नक्षत्र में जन्में लोगों को अधिक सावधानी बरतने की जरूरत होगी। इस राशि में जन्में लोगों को वाद-विवाद से दूर रहने की जरूरत होगी। साथ ही लड़ाई-झगड़े से बचना होगा, क्योंकि इससे आपको चोट लग सकती है।

शुरु हो रहा है कामनाओं को पूर्ण करने वाला महीना : Kartik Mas 2021

कथा: पौराणिक कथा के अनुसार समुद्र मंथन के दौरान स्वर्भानु नामक एक दैत्य ने छल से अमृत पान करने की कोशिश की थी। तब चंद्रमा और सूर्य की इस पर नजर पड़ गई, जिसके बाद दैत्य की हरकत के बारे में चंद्रमा और सूर्य ने भगवान विष्णु को जानकारी दे दी। भगवान विष्णु ने अपने सुर्दशन चक्र से इस दैत्य का सिर धड़ से अलग कर दिया। अमृत की कुछ बूंदें गले से नीचे उतरने के कारण स्वर्भानु नामक दो दैत्य अमर हो गए।

सुख समृद्धि की हो गई है कमी या विकास हो गया अवरुद्ध, तो ये उपाय आएंगे काम

सिर वाला हिस्सा राहु और धड़, केतु के नाम से जाना गया। माना जाता है कि राहु और केतु इसी बात का बदला लेने के लिए समय-समय पर चंद्रमा और सूर्य पर हमला करते हैं। जब ये दोनों क्रूर ग्रह चंद्रमा और सूर्य को जकड़ते लेते हैं तो ग्रहण लगता है। इस दौरान नकारात्मक ऊर्जा पैदा होती है, इसलिए इस दौरान शुभ कार्यों को करने की मनाही होती है।

ज्योतिष के चमत्कारी उपाय, फ्री सर्विस और रोचक जानकारी के लिए ज्वाइन करें हमारा टेलिग्राम चैनल

Google News पर हमसे जुड़ने के लिए हमें यहां क्लीक कर फॉलो करें।

ज्योतिष, धर्म, व्रत एवं त्योहार से जुड़ी ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर @ganeshavoice1 पर फॉलो करें।

maheshshivapress
महेश के. शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in