z2 ganeshavoice.in जाने Astrology कर्क, सिंह और कन्या राशी के गुण और अवगुण
एस्ट्रो न्यूज ज्योतिष जानकारी राशिफल

जाने Astrology कर्क, सिंह और कन्या राशी के गुण और अवगुण

जन्म के समय ग्रहों की स्थिति के विश्लेषण के आधार पर ज्योतिष Astrology हमें एक व्यक्ति की बुनियादी विशेषताओं, प्राथमिकताओं, कमियों और भय की एक झलक दे सकता है। अगर हम राशियों की बुनियादी विशेषताओं को जान लें तो हम वास्तव में लोगों को बहुत बेहतर जान सकते हैं।

 

z2 ganeshavoice.in जाने Astrology कर्क, सिंह और कन्या राशी के गुण और अवगुण

कर्क:

 इस लग्न में जन्मा जातक स्थूल शरीर व्गोल चेहरे के साथ कुछ नाटा भी होता है व धनवान और कई मित्रों वाला होता है तैरने का शौक़ीन होता है उसकी पत्नी परिश्रमी और  उसके प्रतिपूर्ण प्रेम रखने वाली होती है लेकिन संतान कम होती है ।

निर्बलता ; अधीरता , परिवर्तनशीलता , अतिसंवेदनशीलता, आलस्य , स्वार्थी, और शीघ्र उत्तेजित होना ।

 

सिंह :

इस लग्न में जन्मे  जातक की बड़ी ठोडी के साथ प्रभावशाली चौड़ा चेहरा होता है । इनकी आँखें प्रभुत्वशाली होने के कारण लालिमा / शहद के रंग की होती है जातक निडर, बहादुर, साहसी व्पक्के निश्चय वाला होता है वन तुनकमिजाज थोड़े से उकसाने से क्रोधित होने वाला भी होता है ।

निर्बलता : थोडा स्वाभिमानी, अपनत्व, अख्ड्पन, व्खतरा उठाने वाला ।

धन, भाग्य को चमकाता है एक छोटा सा चांदी का छल्ला silver ring : जानिए कब पहना चाहिए

 

कन्या:

इस लग्न में जन्मा जातक आकर्षक आँखों के साथ मध्यम शारीरिक गज वाला होता है इसका व्यक्तित्व प्रभावशाली व् अपनी आयु से कम लगता है वह सच्चा व्यक्ति होता है उसकी बोद्धिक क्षमता तीव्र, कला  व्साहित्य  केप्रति रुझान होता है ऐसा जातक एक सीमा तक शर्मीला भी होता है ।

निर्बलता : अनावश्यक रूप से दूसरो  को कोसना, धर्यहीनता, अपने कार्यों पर शक करना और सरल कार्यो का अत्यधिक विश्लेषण करना ।

ये 7 चमत्कारी उपाय, कभी सुने नही होंगे, देंगे आपको मानसिक शांति और ओवर थिंकिंग से राहत

maheshshivapress
महेश के. शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in