zodiac signs 1 ganeshavoice.in जाने मेष, वृषभ और मिथुन राशी Rashi के गुण और अवगुण
एस्ट्रो न्यूज ज्योतिष जानकारी राशिफल

जाने मेष, वृषभ और मिथुन राशी Rashi के गुण और अवगुण

कुल 12 ज्योतिष राशियाँ Rashi होती हैं, और प्रत्येक राशि की अपनी ताकत और कमजोरियां, अपने स्वयं के विशिष्ट गुण, इच्छा एवं जीवन तथा लोगों के प्रति रवैया होता है। आकाश की छवियों, या जन्म के समय ग्रहों की स्थिति के विश्लेषण के आधार पर ज्योतिष हमें एक व्यक्ति की बुनियादी विशेषताओं, प्राथमिकताओं, कमियों और भय की एक झलक दे सकता है। अगर हम राशियों की बुनियादी विशेषताओं को जान लें तो हम वास्तव में लोगों को बहुत बेहतर जान सकते हैं।

zodiac signs 1 ganeshavoice.in जाने मेष, वृषभ और मिथुन राशी Rashi के गुण और अवगुण

घर या कारोबार को लग गई है बुरी नजर evil eye तो करें ये चमत्कारी उपाय

 

मेष राशि

विशेषता : इस राशि के जातक मध्यम कद, ताकत शरीर के साथ गोल आँखों वाले होते है I ऐसा जातक साहसी, प्रभावशाली और अभिलाषी होता  है I वह शीघ्र ही विचलित व् उत्तेजित हो जाता है वह सदैव ही क्रियाशील होता है और बार बार यात्रा करना पसंद करता है  , वह बातूनी भी होता है I

निर्बलता :  प्राय ऐसा जातक विचार बदलने की विवशता, झगडालू, तानाशाही, धार्मिक विषयों में हठधर्मिता, जीवन साथी के साथ कलह या मनमुटाव

 

वृषभ राशि :

विशेषता : लम्बा चेहरा, माथा चौड़ा, शरीर मजबूत, माध्यम या नाते कद के होते है, इन की जांघे मोटी होती है, इनकी कृषि सम्बन्धी कार्यो  में रूचि होती है I स्वाभाव से दुसरो की सहायता व्सहयोग करने वाला होता है, वह सीधा साधा और स्त्रिओं की संगती में ख़ुशी का अनुभव करता है, सरलता से क्रोधित नहीं होता लेकिन जब क्रोधित होता है तो उसे शांत करना कठिन होता है वह अत्यधिक कूटनीतिज्ञ, आभूषण को खरीदने में रूचि, बाग़बगीचों के कार्यो में रूचि व्स्वम की सुख व्सुविधा पर खर्च करने वाला होता है I

निर्बलता :  आत्मकेन्द्रित व्स्वार्थी, सुख सुविधा के लिए अधिक प्रेम , अधिक समय तक क्रोधित रहना कानूनी विवाद जो प्रकृति के लिए अवरोध उत्पन्न करते है I

दौड़कर आएगा खोया प्यार Love वापिस, करे इस यंत्र का प्रयोग

 

मिथुन राशि :

विशेषता : इस लग्न में जन्मा जातक विशिष्ट नाक के साथ पतले और छरहरे शरीर का होता है वह अस्थिर बुद्धि और चतुर होता है I वह स्त्रियों की संगती को पसंद करता है और उसके मित्र अधिक होते है I

निर्बलता : प्रारंभ किये कार्य की अपूर्णता , परिवर्तनशील एवं अशांत प्रवर्ती व् अधीरता

प्याज और लहसुन का भोग क्यों नही लगाया जाता God भगवान को

maheshshivapress
महेश के. शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in