Rudraksha
ज्योतिष जानकारी राशिफल

Rudraksha इस रुद्राक्ष को पहनने मिलता है शनि की साढ़ेसाती व ढैय्या से छुटकारा

Rudraksha : धार्मिक ग्रंथों के मुताबिक रुद्राक्ष (Rudraksha) भगवान शिव की आंसुओं से उत्पन्न हुआ है। पुराने समय से ही इसे आभूषण की तरह धारण किया जाता है। साथ ही रुद्राक्ष (Rudraksha) ही एक ऐसी चीज है जिसे ग्रहों के नियंत्रण और मंत्र जाप के लिए बेहतर माना जता है। इसके अलावा रुद्राक्ष (Rudraksha) के इस्तेमाल से शनि की पीड़ा को भी शांत किया जा सकता है। साथ ही साथ रुद्राक्ष के इस्तेमाल से शनिदेव की विशेष कृपा हासिल की जा सकती है। शास्त्रों में रुद्राक्ष (Rudraksha) को धारण करने के कुछ नियम बताए गए हैं। नियम के अनुसार धारण करने से निश्चिच तौर पर इसका लाभ मिल सकता है।

Rudraksha

Rudraksha
Rudraksha

जीवनसाथी की तलाश हुई आसान! फ्री रजिस्ट्रेशन करके तलाश करें अपना हमसफर

सभी राशियों का वार्षिक राशिफल 2022 पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

रुद्राक्ष का शनि से कनेक्शन
मान्यता है कि रुद्राक्ष की ताकत कि इसका सही से इस्तेमाल करने वाला हर प्रकार के संकटों को मात देता है। वहीं अगर कोई बिना नियम के इसे धारण करता है तो उल्टा प्रभाव पड़ता है। इसके अलावा अगर रुद्राक्ष का विधि-विधान से धारण किया जाए तो शनि की टेढ़ी नजर से मिलने वाले कष्टों से भी छुटकारा मिल जाता है।

Dayan Temple यहां पूजी जाती हैं डायन, भेंट न चढ़ाने पर आती हैं मुश्किलें

शनि के लिए रुद्राक्ष का इस्तेमाल
शनि की पीड़ा से छुटकारा पाने के लिए रुद्राक्ष का नियम से इस्तेमाल करना चाहिए। ऐसे में शनि की बाधाओं को दूर करने लिए अलग-अलग प्रकार के रुद्राक्ष धारण करना शुभ होता है। नौकरी-रोजगार की समस्या को दूर करने के लिए दस मुखी रुद्राक्ष धारण करना शुभ है। एक साथ 3 दस मुखी रुद्राक्ष धारण करना और भी लाभदायक होगा। इसे शनिवार के दिन लाल धागे में परोकर गले में धारण करें। वहीं अगर कुंडली में शनि का अशुभ प्रभाव है तो इससे बचने के लिए एक मुखी और ग्यारह मुखी रुद्राक्ष एक साथ धारण करना शुभ माना गया है। 1 एक मुखी और 2 ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को एकसाथ लाल धागे में पिरोकर धारण करें।

2022 की सबसे भाग्शाली लड़कियां, इस कारण चमकेगी किस्‍मत Lucky girls

शनि की साढ़ेसाती या ढैया से मुक्ति के लिए
सेहत की समस्या से निजात पाने के लिए शनिवार के दिन गले में 8 मुखी रुद्राक्ष पहनना शुभ है। केवल आठ मुखी रुद्राक्ष धरण करें या एकसाथ 54 आठ मुखी रुद्राक्ष पहनें। इसके अलावा शनि की साढ़ेसाती या ढैया से मुक्ति पाने के लिए पांच मुखी रुद्राक्ष की माला धारण करें। माला धारण करने से पहले इस पर शनि और शिव जी के मंत्रों का जाप करना शुभ होता है।

Read Also-

Makar sankrati 2022 आपकी राशि पर मकर संक्राति का प्रभाव, दान एवं उपाय

Lohri 2022 : 13 जनवरी गुरुवार को मनाएं लोहड़ी, जानें शुभ मुहूर्त

Surya Gochar 2022 : धनवान बन सकते हैं ये राशि वाले जातक

Feng Shui Tips: ये करामाती टिप्स जीवन में भर देंगे रोमांस, वो रहेंगे आपके ही आसपास

Shani Gochar 2022 इन राशि वालों का जाग सकता है सोया हुआ भाग्य

Nutmeg Benefits | अनिंद्रा की समस्या दूर करती है जायफल, जानिए कैसे

Diseases Risk जनवरी 2022 में बढ़ सकता है बीमारियों का खतरा, जानिए वजह

Paush Month बेहद अशुभ हैं अगले 10 दिन, लेकिन ये शुभ चीजें बदल देंगी किस्‍मत!

Lucky charm किस्मत चमकाने के खास उपाय बदल सकते हैं आपकी जिंदगी

ज्योतिष के चमत्कारी उपाय,  व्रत एवं त्योहार फ्री सर्विस और रोचक जानकारी के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर @ganeshavoice1 पर फॉलो करें।

ज्योतिष, धर्म, व्रत एवं त्योहार से जुड़ी ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए  ज्वाइन करें हमारा टेलिग्राम चैनल

Google News पर हमसे जुड़ने के लिए हमें यहां क्लीक कर फॉलो करें।

maheshshivapress
महेश के. शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in