shanidev 1 ganeshavoice.in इन लोगों के बढ़ सकते हैं कष्ट, शुरू होने वाला है शनि की साढ़ेसाती का सबसे भारी चरण Shani SadeSati
ज्योतिष जानकारी राशिफल

इन लोगों के बढ़ सकते हैं कष्ट, शुरू होने वाला है शनि की साढ़ेसाती का सबसे भारी चरण Shani SadeSati

Shani SadeSati : सभी नौ ग्रहों में शनि को सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण माना गया है। क्योंकि सभी ग्रहों में शनि सबसे धीमी चाल से चलते हैं। इस कारण इन्हें एक से दूसरी राशि में प्रवेश करने के लिए ढाई साल तक का समय लग जाता है। न्याय के देवता शनि देव जिस भी राशि में विराजमान होते हैं, उस राशि समेत उसके आगे और पीछे वाली राशि पर भी शनि की साढ़ेसाती चलती है। जिसके कारण एक साथ तीन राशयों पर शनि की साढ़े साती चलती है।

shanidev 1 ganeshavoice.in इन लोगों के बढ़ सकते हैं कष्ट, शुरू होने वाला है शनि की साढ़ेसाती का सबसे भारी चरण Shani SadeSati

जीवनसाथी की तलाश हुई आसान! फ्री रजिस्ट्रेशन करके तलाश करें अपना हमसफर

समस्या है तो समाधान भी है, विद्वान ज्योतिषी से फ्री में लें परामर्श

शनि साढ़ेसाती के तीन चरण होते हैं। पहले चरण में शनि, मानसिक कष्ट देते हैं, दूसरे चरण में मानसिक के साथ-साथ आर्थिक और शारीरिक कष्टों का सामना करना पड़ता है। वहीं, तीसरे चरण में शनि साढ़े साती से मिलने वाले कष्ट धीरे-धीरे कम होने लगते हैं, इस चरण में शनि व्यक्ति को उसकी गलती सुधारने का मौका देते हैं। हालांकि इन तीनों चरणों में साढ़ेसाती का दूसरा चरण सबसे कष्टदायी माना जाता है।

किसान आंदोलन : सच हुई भविष्यवाणी, किसानों के सामने क्यों झुके पीएम मोदी ? Farmers’ Movement

वर्तमान समय में शनि मकर राशि में विराजमान हैं, जिसके कारण मकर, कुंभ और धनु राशि पर शनि की साढ़ेसाती चल रही है। जहां मकर राशि पर साढ़े साती का दूसरा चरण चल रहा है तो वहीं कुंभ पर पहला और धनु राशि पर इसका आखिरी चरण चल रहा है। अब शनि अगला राशि परिवर्तन 29 अप्रैल 2022 में करेंगे। इस दौरान वह मकर राशि से निकलकर कुंभ में प्रवेश करेंगे।

Love Rashifal 2022 : इन राशि वालों की लव लाइफ हो सकती है शानदार

शनि के राशि परिवर्तन से कुंभ राशि के जातकों पर साढ़ेसाती का दूसरा चरण शुरू हो जाएगा और उन्हें तमाम तरह के कष्टों का सामना करना पड़ सकता है। दूसरे चरण में व्यक्ति के पारिवारिक जीवन में उतार-चढ़ाव आता है, साथ ही उसे शारिरिक कष्ट भी भोगने पड़ते है। इस दौरान कोई भी उसका साथ नहीं देता। साढ़ेसाती के इस चरण में परेशानियां मनुष्य को चारों तरफ से घेर लेती हैं। ऐसे में जातक को सभी कामों को बेहद ही सावधानी से करना चाहिए और कभी भी धैर्य नहीं खोना चाहिए। क्योंकि शनि, कुंभ राशि के स्वामी ग्रह है, इसलिए बाकी राशि वालों की तुलना में कुंभ राशि के जातकों के लिए दूसरा चरण कम कष्टदायी होगा।

ज्योतिष के चमत्कारी उपाय, फ्री सर्विस और रोचक जानकारी के लिए ज्वाइन करें हमारा टेलिग्राम चैनल

Google News पर हमसे जुड़ने के लिए हमें यहां क्लीक कर फॉलो करें।

ज्योतिष, धर्म, व्रत एवं त्योहार से जुड़ी ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर @ganeshavoice1 पर फॉलो करें।

maheshshivapress
महेश के. शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in