batuk bairav.1 1
धर्म दर्शन रावण संहिता राशिफल

सभी परेशानियों को मिनटों में दूर करते हैं बटुक भैरव : होती है धन, बुद्धि, विद्या,सम्मान की प्राप्ति Batuk Bhairav

Batuk Bhairav : सनातन परंपरा में विभिन्न देवी-देवताओं की पूजा का विधान है, लेकिन इनमें सबसे जल्दी प्रसन्न होकर आपको बड़ी से बड़ी विपदाओं से निकालने वाले कोई देवता हैं तो वो हैं भगवान कालभैरव। रुद्रयामल तंत्र में 64 भैरव का उल्लेख मिलता है लेकिन अमूमन लोग भैरव के दो स्वरूप की ज्यादा पूजा करते हैं, जिनमें से एक हैं बटुक भैरव और दूसरे काल भैरव। तंत्र ग्रंथों में भगवान भैरव की उत्पत्ति भगवान शिव से मानी गई है, जिनकी पूजा करने वाले साधक को जीवन में कभी भी कोई भय नहीं सताता है।

batuk bairav.1 1

जीवनसाथी की तलाश हुई आसान! फ्री रजिस्ट्रेशन करके तलाश करें अपना हमसफर

समस्या है तो समाधान भी है, विद्वान ज्योतिषी से फ्री में लें परामर्श

बटुक भैरव का स्वरूप
बटुक भैरव स्फटिक के समान शुभ्र वर्ण वाले हैं। उन्होंने अपने कानों कुण्डल धारण किया हुआ है और दिव्य मणियों से से सुशोभित हैं। बटुक भैरव प्रसन्न मुख वाले और अपनी भुजाओं में अस्त्र-शस्त्र धारण किये होते हैं। उनके गले में माला शोभायमान हैं।

कैसे हुई बटुक भैरव की उत्पत्ति
मान्यता है कि प्राचीन काल में एक आपद् नामक राक्षस था, जिसने कठोर तपस्या करके यह वर प्राप्त कर लिया कि उसकी मृत्यु केवल पाँच वर्ष के बालक से ही हो सकती है और वह किसी अन्य प्राणी से नहीं मारा जा सकता है।

नाम के पहले अक्षर से जानिए कैसा है आपके लव पार्टनर का स्वभाव : love partner – 2

इसके बाद उसने तीनों लोकों में आतंक फैला दिया। ऐसे में जब सभी देवता इस समस्या का समाधान खोजने का विचार कर रहे थे तभी उन देवताओं के शरीर से एक-एक तेजोधारा निकली और उससे एक पंचवर्षीय बटुक की उत्पत्ति हुई, जिसमें अद्भुत तेज था. इसी बटुक ने फिर बाद में आपद् नामक राक्षस का वध किया और बाद में आपदुद्धारक बटुक भैरव के नाम से जाने गये।

आपको भी आ​ते हैं डरावने या बुरे सपने तो तुरंत करें ये उपाय : Swapna Shastra

बटुक भैरव की पूजा के लाभ
भगवान भैरव के इस स्वरूप की साधना सभी प्रकार से लाभकारी और मनोकामनाओं को पूरा करने वाली है। रविवार के दिन भगवान बटुक भैरव की साधना करने पर साधक को बल, बुद्धि, विद्या, मान-सम्मान आदि की प्राप्ति होती है।

आज से इन पांच राशि वालों को मालामाल करेंगे शुक्र ग्रह : shukra Gochar 2021

यदि आप किसी बड़ी विपदा में फंसे हुए हैं तो उससे बचने के लिए भगवान भैरव की साधना किसी वरदान से कम नहीं है। बटुक भैरव की पूजा सभी संकटों से बचाती हुई शत्रुओं का नाश करती है। ज्योतिष के अनुसार राहु-केतु से संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए भी बटुक साधना अत्यंत फलदायी है।

ज्योतिष के चमत्कारी उपाय, फ्री सर्विस और रोचक जानकारी के लिए ज्वाइन करें हमारा टेलिग्राम चैनल

Google News पर हमसे जुड़ने के लिए हमें यहां क्लीक कर फॉलो करें।

ज्योतिष, धर्म, व्रत एवं त्योहार से जुड़ी ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर @ganeshavoice1 पर फॉलो करें।

maheshshivapress
महेश के. शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in