astrology 1
वास्तु टिप्स

vastu tips : घर मेें कछुआ लाने से होते हैं ये चमत्कारी फायदें

हिन्दू सनातन धर्म के आधार पर कछुआ के रूप में भगवान विष्णु ने कच्छप अवतार लिया था जिसे कूर्म अवतार के नाम से भी जाना जाता है। भारत के पुराणों में भी कछुए का काफी जिक्र होता आया है। भगवान विष्णु का एक रूप कछुआ भी है। समुद्र मंथन के समय भगवान विष्णु ने कछुए का रूप धारण किया था। धार्मिक रूप में कछुआ सौभाग्यशाली माना जाता है। इसलिए कछुए की पूजा भी होती है।

वास्तु शास्त्र में कछुए के कई गुण गिनाए गए हैं। जो आपको हर तरह से फायदा दे सकता है। कछुऐ का चित्र या कछुआ रखने से आपकी कई सारी परेशानियां ठीक हो जाती हैं। अत: रोजगार की जगह या अपने मकान में सुख-समृद्धि और खुशियां बढाने के लिए कछुआ रखना मंगलकारी होता है।

समस्या है तो समाधान भी है, अभी ज्योतिष से बात करें बिल्कुल फ्री

यदि हम फेंगशुई या फिर भारतीय धार्मिक शास्त्रों की माने तो घर या ऑफिस में कछुआ रखना अति शुभकारी माना गया है। घर में कछुआ रखने से घर में नकारात्मक उर्जा कम होती है और सकारात्मक उर्जा में बढोतरी होती है। इसके अलावा घर के परिवार के सदस्यों की उम्र में बढोतरी होती है, साथ ही साथ घर में सुख शांति बढती है। आईए जानते है घर में कछुआ रखना क्यों शुभ माना जाता है।

घर में कछुआ रखने के विशेष फायदे
कछुआ लम्बे समय तक जीवित रहने वाला एक शांत जीव है। आप कछुए की फोटो या फिर अष्टधातु से निर्मित कछुए को भी घर के मंदिर में रख सकते है। ध्यान रखें कि कछुआ पानी से भरे पीतल या अष्टधातु के पात्र में ही रहे। घर में कछुआ रखना शुभ माना जाता है, लेकिन ध्यान रखें कि कछुए को कभी भी बेडरूम में ना रखे। इससे घर में उल्टा प्रभाव पड सकता है। इसे आप घर के उत्तर दिशा की तरफ रखे। घर के सदस्यों की उम्र में बढोत्तरी होती है क्योंकि कछुआ भी लम्बी उम्र का जीव जंतु है। कछुआ शांत प्राणी है इसलिए घर में शांति बनी हुई रहती है। घर में कछुआ रखने से घर पर किसी भी तरह की काली नजर नहीं लगती। कछुआ रखने से बीमारियां उस घर में नहीं आती हैं।

संकलनकर्त्ता

श्री ज्योतिष सेवाश्रम संस्थान (राज.)

समस्या है तो समाधान भी है, अभी ज्योतिष से बात करें बिल्कुल फ्री

maheshshivapress
महेश कुमार शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *