1580622503 0058 1
राशिफल वास्तु टिप्स

यदि चाहते हैं अपार धन और संपत्ति तो अपनाए वास्तु के ये टिप्स Vastu Tips

Vastu Tips वास्तु शास्त्र के अनुसार चार दिशाओं में से एक दिशा उत्तर दिशा है। उत्तर दिशा ‘उ’ अक्षर से संबोधित की जाती हैं। उत्तर दिशा से चुम्बकीय तरंगों का घर में प्रवेश होता है और यह चुम्बकीय तरंगें मानव शरीर में बहने वाले रक्त संचार को प्रभावित करती हैं अतः स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से उत्तर दिशा का प्रभाव बहुत बढ़ जाता है। भवन में घर की उत्तर दिशा में भगवान कुबेर का वास होता है। Vastu Tips

1580622503 0058 1

समस्या है तो समाधान भी है, विद्वान ज्योतिषी से फ्री में लें परामर्श

Vastu Tips कहते हैं अगर इस दिशा को वास्तु के अनुरूप रखा जाए तो अपार धन और संपत्ति के मालिक बन सकते हैं। उत्तरमुखी भवन में निवास करने वाले लोग न केवल सेहत के लिहाज से सुखी रहते हैं, धन-वैभव से समृद्ध तथा संपन्न भी रहते हैं। आइए जानें उत्तर दिशा को लाभदायी बनाने की 10 काम की बातें…

1. घर की शांति के लिए उत्तर दिशा घर के मध्य भाग से नीचा होना चाहिए।

2. घर की उत्तर दिशा में पानी का नल न लगाए इससे धन की हानि हो सकती है।

3. घर की उत्तर दिशा में पूजा स्थान और गेस्ट रूम शुभ होता है।

4. घर के सदस्यों में प्यार बना रहे इसलिए उत्तर दिशा में कोई भी दीवार टूटी हुई या किसी भी दीवार में दरार नहीं होनी चाहिए।

5. घर में सुख शांति के लिए उत्तर दिशा में किचन न बनवाएं।
6. इस दिशा के भवन में आगे की ओर अधिक से अधिक खुली जगह छोड़ना चाहिए।

7. भूमिगत वाटर टैंक उत्तर-पूर्व में बनाएं, इससे भवन में रहने वालों को धन संचय करने में मदद होती है।

8. इस दिशा में टॉयलेट, बाथरूम न बनाएं।

9. उत्तर की ओर ओपन टेरेस रखने से सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।

10. उत्तर दिशा का कोई कोना कटा हुआ न हो।

ज्योतिष के चमत्कारी उपाय, फ्री सर्विस और रोचक जानकारी के लिए ज्वाइन करें हमारा टेलिग्राम चैनल

Google News पर हमसे जुड़ने के लिए हमें यहां क्लीक कर फॉलो करें।

ज्योतिष, धर्म, व्रत एवं त्योहार से जुड़ी ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर @ganeshavoice1 पर फॉलो करें।

maheshshivapress
महेश कुमार शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in