maa annpurna 1
धर्म दर्शन व्रत एवं त्यौहार

यहां अन्नपूर्णा देवी ने भरा भोलेनाथ का खप्पर, जाने शिवरात्रि के बाद इस पूजा का महत्व

महाशिवरात्रि पर भगवान आशुतोष की आराधना के बाद खप्पर पूजा का आयोजन शिवालयों में किया जा रहा है। शिव मंदिरों के अलावा आस्‍थावान लोग घर में भी खप्‍पर पूजन करते हैं। द्वार पर आने वाले साधुओं को शिव का प्रतिनिधि मान लोग भेंट देते हैं और उनके हाथ में लगे कटोरे नुमा लकड़ी के खप्‍पर को कढ़ी एवं चावल से भरते हैं। ब्रज में प्रचलित इस पूजा के कई मायने हैं।
पौराणिक मान्यता के अनुसार कहा जाता है कि भगवान शंकर का परिवार बहुत बड़ा था। जिसमें मां पार्वती, गणेशजी के अलावा सर्प, नंदी, गणेशजी, गणेशजी का मूसक, मां पार्वती का सिंह था। लेकिन भगवान के पास तो भांग के अलावा कुछ भी नहीं था। वे भस्म लगाते थे और श्मशान में रहते थे। लेकिन शिव के परिवार के अन्‍य सदस्‍यों को तो भूख लगती ही थी। भोजन को लेकर परिवार में आपस में झगड़ा होने लगा। सभी भूखे थे तो भगवान शंकर पार्वती जी के पास जो कि अन्नपूर्णा थीं, उनके पास भिक्षा मांगने गए। भगवान भोलेनाथ ने मां अन्नपूर्णा से कहा:

Free Astrology : india’s best Astrologer : Click this Link –

अन्नपूर्णे सदा पूर्णे, शंकर प्राण बल्लभे।
ज्ञान, वैराग्य सिध्यर्थम्, भिक्षाम् देहि पार्वती ।।
भोलेनाथ बोले हे जगज्जननी मेरे पूरे परिवार में भूख को लेकर कलह हो रहा है..सब भूखे हैं। तो पार्वती जी ने भगवान शंकर के पास जो खप्पर था उसको अन्न से भर दिया। वह खप्पर आज तक खाली नहीं हुआ है। आज सारी सृष्टि का पालन मां अन्नपूर्णां इसी खप्पर के माध्यम से भरण पोषण कर रही हैं..
शिव हुए ब्रज की धरा पर पदार्पित
यूं तो शिव के मंदिर भारत में उत्तर से लेकर दक्षिण और पूर्व से लेकर पश्चिम तक हैं लेकिन ब्रजमण्डल के शिव मंदिरों की कुछ खास ही बात है। कई मंदिर यहां ऐसे हैं जिनके बारे में जनश्रुति है कि भगवान शिव यहां पदार्पित हुए थे।
कहते हैं कि द्वापर युग में भगवान शिव कई बार ब्रजआए थे। यहां तीन ऐसे मंदिर हैं जो पांच हजार साल से भी ज्यादा पुराने बताये जाते हैं। मथुरा का रंगेश्वर महादेव, वृंदावन का गोपेश्वर महादेवऔर नंदगांव का आश्वेश्वरमहादेव मंदिर भोले भंडारी से सीधे जुड़े हुए माने जाते हैं।

इन उपायों को करने से चमत्कारी रुप से आता है रुपया पैसा, बनते हैं अमीर

नंदगांव के आश्वेश्वर मंदिर के बारे में कहा जाता है कि भगवान श्रीकृष्ण को जब वसुदेव नंद के यहां छोड़ गए तो भगवान शिव उनके दर्शन करने यहां पधारे थे। योगी के वेश में आए भोलेनाथ को माता यशोदा पहचान नहीं सकीं और उन्होंने बालक कृष्ण के दर्शन कराने से मना कर दिया। कहते हैं कि इस पर नाराज होकर भगवान शिव उसी जगह धूनी रमाकर बैठ गए थे और अंतत: यशोदा को अपने लाल को उन्हें दिखाना पड़ा था..
ब्रज के एक और मंदिर का महादेव से पुराना नाता बताया जाता है। प्राचीन कथानकों के अनुसार राधा और श्रीकृष्ण यहां महारास कर रहे थे। उन्होंने गोपियों को आदेश दे रखा था कि कोई पुरुष यहां नहीं आना चाहिये। उसी वक्त भगवान शिव उनसे मिलने वहां पहुंच गये। गोपियों ने आदेश का पालन करते हुये महादेव को वहां रोक लिया और कहा कि स्त्री वेश में ही वह अंदर जा सकते हैं। इसके बाद महादेव ने गोपी का रूप धरकर प्रवेश किया लेकिन श्रीकृष्ण उन्हें पहचान गये। भगवान शिव के गोपी का रूप लेने की वजह से ही इस मंदिर का नाम गोपेश्वर महादेव मंदिर है।
खप्‍पर पूजा का विशेष महत्‍व
रंगेश्वर महादेव मंदिर में खप्पर एवं जेहर पूजा का विशेष महत्व है। खप्पर पूजा महाशिवरात्रि के बाद अमावस्या को होती है। वहीं, जेहर पूजा महाशिवरात्रि के दिन नवविवाहिता महिलायें पुत्र की प्राप्ति के लिए करती हैं।

Free Astrology : india’s best Astrologer : Click this Link –

maheshshivapress
महेश कुमार शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *