camphor ke upay 1 ganeshavoice.in वास्तुदोष, पितृदोष और नजरदोष को दूर करता है कपूर, भाग्य रहेगा साथ
वास्तु टिप्स

वास्तुदोष, पितृदोष और नजरदोष को दूर करता है कपूर, भाग्य रहेगा साथ

नई दिल्ली। सनातन धर्म में ऐसी कोई भी पूजा या अनुष्ठान नहीं जिसमे कपूर का उपयोग नहीं होता है। हवन से लेकर आरती तक में कपूर का विशेष महत्व है। इससे घर का शुद्धिकरण होता है, लेकिन पूजा के अलावा कपूर कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को दूर करने में भी काम आता है। घर में नियमित कपूर जलाने से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है और सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। इसके साथ ही वास्तु एवं ज्योतिष शास्त्र में भी इसके चमत्कारी महत्व और उपयोग के बारे में बताया गया है।

फ्री ज्योतिष परामर्श के लिए कृपया इस लिंक पर क्लीक करें

पितृदोष या फिर राहु-केतु के बुरे प्रभाव को दूर करने के लिए रोजाना अपने घर में कपूर जलाएं। आकस्मिक दुर्घटना से बचने लिए रोजाना शाम को पूजा के दौरान हनुमान चालीसा का पाठ करें और कपूर में लौंग डालकर आरती करें। यदि आपका भाग्य साथ नहीं दे रहा, तो अपनी किस्मत के सितारे को चमकाने के लिए नहाते समय पानी में कपूर के तेल की बूंद डालकर नहाएं। ऐसा करने से शरीर को पॉजिटिव ऊर्जा मिलने के साथ-साथ आपका भाग्य भी अच्छा होगा।

वर्ष 2021 में कौन सा ग्रह कब कर रहा है राशि परिवर्तन, जानिए अभी

वास्तु के मुताबिक अगर आपके प्रयासों के बावजूद काम नहीं बन रहे हों या फिर आपके काम होते होते रुक जाते हों तो एक चांदी की कटोरी में नियमित रूप से लौंग और कपूर जलाकर पूरे घर में घुमाएं। इससे जीवन में आने वाली सभी प्रकार की बाधाएं दूर होंगी और बिगड़े काम भी बनने लगेंगे।

कपूर की खुशबु शरीर तथा दिमाग दोनों को स्वस्थ रखती है. अगर आपको नींद की समस्या तंग करती है, तो कपूर के तेल की खुशबू का इस्तेमाल करें ये दिमाग को शांत रखने और बेहतर नींद लाने में बेहद असरदार है। इसके लिए आपको कपूर के तेल की कुछ बूंदों को सोते समय अपने तकिए पर लगना है। इससे दिमाग सुकून मिलेगा और नींद भी अच्छी आएगी।

अचानक धन आगमन के संकेत भी देता है उल्लू, शुभता का प्रतीक भी है ये पक्षी

कई घरों में वास्तुदोष होने के कारण घर की सुख-शांति भंग होती है जिससे घर में कलह का माहौल बना रहता है। दुकान में वास्तुदोष होने से मालिक को हमेशा घाटा होता रहता है। घर या प्रतिष्ठान में वास्तुदोष व नेगेटिव एनर्जी को दूर करने के लिए कपूर की गोलियां रखें। इससे नकारात्मक ऊर्जा तो दूर होगी धन लाभ भी होगा।

सनातन धर्म में घर में पूजा-पाठ के समय कपूर जलाने से, इसका धुआं वातावरण में फैलता है। जिससे वातावरण में मौजूद बैक्टीरिया आदि खत्म होते हैं और इसकी सुगंध से हवा शुद्ध होती है। सर्दी के दिनों में कपूर को ऊनी कपड़ों में रखने से कीड़े-मकोड़े नहीं लगते।

maheshshivapress
महेश के. शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *