tarot cards copy 1
टैरो कार्ड

टैरो कार्ड रीडिंग : मानव जीवन के बारे में बहुत कुछ कहते हैं यह कार्ड

Pritee sanjay 1
प्रीति संजय, टैरो कार्ड रीडर

BY: प्रीति संजय, टैरो कार्ड रीडर
मेजर अरकाना में 22 कार्ड होते हैं, जो व्यक्ति के जीवन पथ की व्याख्या में सहायक होते हैं। यह आत्म खोज के प्रतीक के रूप में लिया जाना चाहिए। हर कार्ड का किसी ग्रह या राशि से भी संबंध होता है। कुछ खास चित्र वाले कार्ड भी हैं जैसे मैजिशियन (जादूगर) का। प्रत्येक चित्र अपने आप में अर्थ प्रतीक समाहित किए रहता है, जिससे जातक का अवचेतन मन जागृत हो उठता है। व्याख्या गहरी हो जाती हैं तथा टैरो रीडिंग के नतीजे बहुत अच्छे आते हैं।

हम मेजर अरकाना के 22 कार्डो का विवरण एक-एक करके करेंगे लेकिन सबसे पहले 22 नंबर के कार्ड का विवरण देंगे।

समस्या है तो समाधान भी है। यहां क्लीक करके अपनी समस्या का समाधान जाने।

द वर्ल्ड कार का स्वामी शनि है। चार कोनों पर चार आकृतियां बनी हुई है – मानव, बैल, सिंह तथा गरुड़। कुंभ, वृषभ, सिंह तथा वृश्चिक राशियों का दर्पण भी है यह। ईसाई मत का आधार ले तो मैथ्यू, मार्क, ल्यूक और जॉन के प्रतीक है। चार दिशाओं के प्रतीक ही इनमें निहित कहे जा सकते हैं। कहीं कहीं माना जाता है कि केंद्र में नृत्यरत पात्र में स्त्री तथा पुरुष का मेल है यानी संपूर्ण विश्व के चक्र का केंद्रीय संयोजित तत्व।

यू कहे तो यह दुनिया बदलावों के चक्र से गुजरने का नाम है इसलिए ‘द वर्ल्ड कार्ड’ का एक अर्थ बदलाव भी है। किसी एक कार्य चक्र की पूर्णता हो चुकी है। श्रम और सफलता का एक दौर पूरा हुआ, अब नए दौर में प्रवेश करें।

यूपी के इस ज्योतिषाचार्य ने खोज निकाली संतान प्राप्ति की दवा

टैरो कार्ड में यह कार्ड एक प्रकार से सर्वश्रेष्ठ है क्योंकि यह कहता है कि चलो एक युद्ध पूरा हुआ नया बीज पल्लवित होने की वेला है। भौतिक रूप से सफलताओं की प्राप्ति आपको हो चुकी है। यदि नहीं हुई है कार्य अपूर्ण रहा है तो शायद कहीं आप से छोटी सी चूक हो गई है दूर दृष्टि का अभाव रहा है।

किसी एक चक्र की पूर्णता जैसे परीक्षा या किसी प्रोजेक्ट के परिणाम की प्राप्ति भी हो सकती है। साथ ही यह भी हो सकता है कि इतना बड़ा विश्व आपको नई खोज का आमंत्रण दे रहा है। नये मित्र, नए ठिकाने, नए संबंध, नई जगह में आनंद की तलाश शुरू करें।

शारीरिक अंगों पर तिल से जानिए मानव का व्यक्तित्व और स्वभाव

भविष्य के लिए अब तक आपने जो किया वह एक चरण पूरा हो चुका है। अध्यात्म हो या भौतिक संपन्नता आपने बहुत अर्थ जाने। अब एक और नए अर्थ की तलाश करो जो जीवन के नए चक्र को सार्थक कर सके।

समस्या है तो समाधान भी है। यहां क्लीक करके अपनी समस्या का समाधान जाने।

maheshshivapress
महेश कुमार शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *