shivratri 2021 1 ganeshavoice.in सौभाग्य एवं आरोग्य के लिए 6 अगस्त को मनाएं श्रावण शिवरात्रि : shravan shivratri
राशिफल व्रत एवं त्यौहार

सौभाग्य एवं आरोग्य के लिए 6 अगस्त को मनाएं श्रावण शिवरात्रि : shravan shivratri

shravan shivratri : 25 जुलाई से श्रावण मास का शुभारंभ हो चुका है। इसके साथ ही त्योहारों का मौसम भी शुरु हो गया है। अगस्त मास में ही 11 को हरियाली तीज, 13 को नाग पंचमी, 22 को श्रावण पूर्णिमा व रक्षाबंधन, 24 को कजरी तीज, 30 को जन्माष्टमी और 31 को गुग्गा नवमी जैसे महत्वपूर्ण पर्व आ रहे हैं। shravan shivratri :

shivratri 2021 1 ganeshavoice.in सौभाग्य एवं आरोग्य के लिए 6 अगस्त को मनाएं श्रावण शिवरात्रि : shravan shivratri

समस्या है तो समाधान भी है, विद्वान ज्योतिषी से फ्री में लें परामर्श

सावन का हर दिन भगवान शिव की आराधना के लिए उत्तम और श्रेष्ठ होता है। आप प्रत्येक दिन विधि विधान से भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा कर उनकी कृपा प्राप्त कर सकते हैं। सावन माह में सावन सोमवार व्रत हो या फिर मंगला गौरी व्रत दोनों ही शिव और शक्ति का आशीष प्राप्त करने का साधन है।

Sawan : चाहिए खुशियां अपार तो बिल्वपत्र चढ़ाने के नियम भी अपनाएं

यदि आप किन्हीं कारणों से इन व्रतों को नहीं कर पाते हैं, तो आपको निराश होने की जरुरत नहीं है, आप सावन शिवरात्रि shravan shivratriका व्रत रख सकते हैं। सावन शिवरात्रि व्रत का भी विशेष महत्व होता है। सावन शिवरात्रि के दिन व्रत रखते हुए आप भगवान शिव की विधिपूर्वक पूजा करें और उनकी कृपा का लाभ उठाएं।

किस राशि का लड़का होता है परफेक्ट ब्वॉयफ्रेंड, जानिए अभी : boyfriend

सौभाग्य और आरोग्य के लिए है- सावन की शिवरात्रि का व्रत-.

कुंवारे लोगों को मनचाहा जीवनसाथी प्राप्त होता है और वैवाहिक जीवन के कष्ट दूर होते हैं। कहा जाता है कि जिन लोगों के विवाह में अड़चनें आ रही हैं, उन्हें सावन की शिवरात्रि का व्रत जरूर रखना चाहिए। इससे विवाह की अड़चनें दूर होती हैं और मनचाहे जीवनसाथी की प्राप्ति होती है। इसके अलावा जो लोग विवाहित हैं, वे इस व्रत को रहें तो उनके वैवाहिक जीवन के संकट दूर होते हैं।

सभी मनोकामना पूरी करता है रुद्राभिषेक Rudrabhishek

सावन की शिवरात्रि का व्रत और इस दिन भगवान शिव की आराधना करने से शांति, रक्षा, सौभाग्य और आरोग्य की प्राप्ति होती है। मान्यता है कि सावन की शिवरात्रि व्रती के सभी पाप को नष्ट कर देती है।

कब है सावन की शिवरात्रि

मासिक शिवरात्रि हर महीने की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को होती है। उससे एक दिन पहले प्रदोष व्रत रखा जाता है। हिंदू पंचांग के अनुसार इस सावन मास के चतुर्दशी तिथि 06 अगस्त दिन शुक्रवार को पड़ेगी। चतुर्दशी तिथि 06 अगस्त को शाम 06 बजकर 28 मिनट पर शुरू होकर 07 अगस्त दिन शनिवार को शाम 07 बजकर 11 मिनट तक रहेगी। हालांकि शिवरात्रि का व्रत 6 अगस्त को रखा जाएगा।

बिगड़ रहे हैं बनते बनते काम, धन संपत्ति हो गई बर्बाद तो करें ये अचूक उपाय 

पूजा का शुभ मुहूर्त

शास्त्रों के अनुसार शिवरात्रि के दिन निशिता काल पूजा करना श्रेष्ठ माना जाता है। निशिता काल कुल 43 मिनट का है जो 6 अगस्त की रात 12 बजकर 06 मिनट से शुरू होकर देर रात 12 बजकर 48 मिनट तक रहेगा। अगर आप निशिता काल में पूजा नहीं कर सकते तो इन शुभ मुहूर्त में पूजा कर सकते हैं-

शाम 07:08 बजे से रात 09:48 बजे तक

रात 09:48 बजे से देर रात 12:27 बजे तक

देर रात 12:27 बजे से तड़के 03:06 बजे तक

07 अगस्त को सुबह 03:06 मिनट से सुबह 05:46 मिनट तक

किसका भाग्य बदलेंगे बुध, बुध ने किया है राशि परिवर्तन, क्या आप है शामिल 

7 अगस्त को होगा व्रत पारण

शिवरात्रि के व्रत का पारण उसी दिन नहीं किया जाता है। व्रत के अगले दिन किया जाता है। 6 अगस्त को सावन की मासिक शिवरात्रि का व्रत रखा जाएगा, ऐसे में व्रत पारण 7 अगस्त को किया जाएगा। 7 अगस्त की सुबह 05:46 मिनट से लेकर दोपहर 03:47 मिनट तक के बीच कभी भी व्रत का पारण कर सकते हैं। स्नान के बाद व्रत पारण करें और सामर्थ्य के अनुसार जरूरतमंद को दान दें।

ज्योतिष के चमत्कारी उपाय, फ्री सर्विस और रोचक जानकारी के लिए ज्वाइन करें हमारा टेलिग्राम चैनल

Google News पर हमसे जुड़ने के लिए हमें यहां क्लीक कर फॉलो करें।

ज्योतिष, धर्म, व्रत एवं त्योहार से जुड़ी ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर @ganeshavoice1 पर फॉलो करें।

maheshshivapress
महेश के. शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in