Guru Purnima 2021 1
ज्योतिष जानकारी राशिफल व्रत एवं त्यौहार

शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या से बचने के लिए गुरु पूर्णिमा पर करें ये उपाय : Guru Purnima 2021

Guru Purnima 2021 : आषाढ़ मास की पूर्णिमा को गुरू पूर्णिमा कहा जाता है। माना जाता है कि इसी दिन महर्षि वेदव्यास का जन्म हुआ था। चूंकि गुरु वेद व्यास ने ही पहली बार मानव जाति को चारों वेद का ज्ञान दिया था, इसलिए उन्हें प्रथम गुरू मानते हुए उनकी जन्मतिथि को गुरू पूर्णिमा या व्यास पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है। इस बार गुरू पूर्णिमा 23 जुलाई 2021 को सुबह 10:43 ​बजे से शुरू होकर 24 जुलाई 2021 की सुबह 08:06 बजे तक रहेगी, लेकिन उदया तिथि के कारण इसे 24 जुलाई को मनाया जाएगा। (Guru Purnima 2021)

Guru Purnima 2021 1

एक मिट्टी का दीया भी बदल सकता है आपका भाग्य, जानिए कैसे ? Deepak

ज्योतिष विशेषज्ञों का मानना है कि इस बार गुरू पूर्णिमा (Guru Purnima 2021) के दिन शनिदेव की पूजा का भी विशेष योग बन रहा है। ऐसे में 5 राशि के लोग जो इस समय शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या से गुजर रहे हैं, उनके लिए साढ़ेसाती और ढैय्या के कष्टों से मुक्ति पाने का ये विशेष अवसर है। गुरू पूर्णिमा के दिन ऐसे लोग शनिदेव से जुड़े कुछ उपाय करके खुद को तमाम कष्टों से बचा सकते हैं।

समस्या है तो समाधान भी है, विद्वान ज्योतिषी से फ्री में लें परामर्श

इन राशियों पर चल रही साढ़ेसाती और ढैय्या
ज्योतिष विशेषज्ञों के मुताबिक इस समय तीन राशियां धनु, मकर और कुंभ शनि की साढ़ेसाती का प्रकोप झेल रही हैं। शनि साढ़ेसाती के दौरान व्यक्ति को शारीरिक, मानसिक और आर्थिक रूप से काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। वहीं दो राशियों मिथुन और तुला राशि पर शनि की ढैय्या चल रही है। शनि जब किसी राशि पर ढाई वर्ष का समय लेते हैं तो उसे शनि की ढैय्या कहा जाता है। इस दौरान व्यक्ति को दांपत्य जीवन, लव रिलेशनशिप और करियर आदि में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

देवशयनी एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा, महत्व और आरती : Devshayani Ekadashi

इन उपायों से दूर होंगे संकट
1. शनिवार के दिन काले कुत्ते को सरसों का तेल लगी रोटी खिलाएं। अगर काला कुत्ता न मिला तो किसी भी कुत्ते को खिला सकते हैं।

2. जल में काले तिल डालकर महादेव का जलाभिषेक करें। मान्यता है कि शनिदेव महादेव को अपना गुरू मानते हैं। ऐसे में उनकी पूजा करने वालों को वे कष्ट नहीं देते।

3. पीपल के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं। अगर आसपास कोई शनि मंदिर हो तो एक दीपक वहां भी रखें।

Everyone Dream एक घर हो अपना… यंत्र से हो सकता है साकार

4. सरसों का तेल, काले तिल, लोहा, काली दाल, काले वस्त्र आदि किसी जरूरतमंद को दान करें।

5. हनुमान महाराज की आराधना करें। कहा जाता है कि हनुमान जी की आराधना करने वाले लोगों को शनिदेव नहीं सताते। आप इस दिन हनुमान जी के समक्ष दीपक जलाकर हनुमान चालीसा का पाठ करें।

6. पीपल के पेड़ के चारों तरफ सात बार परिक्रमा करते हुए ऊं शं शनैश्चराय नम: मंत्र का जाप करें। ऐसा गुरू पूर्णिमा के अलावा शनिवार के दिन भी करें।

ज्योतिष के चमत्कारी उपाय, फ्री सर्विस और रोचक जानकारी के लिए ज्वाइन करें हमारा टेलिग्राम चैनल

Google News पर हमसे जुड़ने के लिए हमें यहां क्लीक कर फॉलो करें।

ज्योतिष, धर्म, व्रत एवं त्योहार से जुड़ी ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर @ganeshavoice1 पर फॉलो करें।

maheshshivapress
महेश कुमार शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in