Capture1 1 3 ganeshavoice.in मरने के बाद किसी भी व्यक्ति के शव को क्‍यों नहीं छोड़ा जाता है अकेला? garuda purana
एस्ट्रो न्यूज ज्योतिष जानकारी राशिफल

मरने के बाद किसी भी व्यक्ति के शव को क्‍यों नहीं छोड़ा जाता है अकेला? garuda purana

garuda purana : सनातन धर्म में मृतक के अंतिम संस्‍कार को लेकर कुछ खास नियमों का पालन किया जाता है। ये नियम अंतिम संस्‍कार करने, उसके बाद के 13 दिनों तक की रस्‍मों से तो जुड़े ही हैं। इसके अलावा शव को रखने को लेकर भी कई नियम बनाए गए हैं। आमतौर पर मृत्‍यु के कुछ देर बाद ही शव का अंतिम संस्‍कार कर दिया जाता है, लेकिन कभी-कभी मृतक के बाहर रह रहे परिजनों-रिश्‍तेदारों के इंतजार में अंतिम संस्‍कार को कुछ देर के लिए रोकना पड़ता है।

Capture1 1 3 ganeshavoice.in मरने के बाद किसी भी व्यक्ति के शव को क्‍यों नहीं छोड़ा जाता है अकेला? garuda purana

जीवनसाथी की तलाश हुई आसान! फ्री रजिस्ट्रेशन करके तलाश करें अपना हमसफर

समस्या है तो समाधान भी है, विद्वान ज्योतिषी से फ्री में लें परामर्श

वहीं जिन लोगों की शाम को या रात को मृत्‍यु होती है, उनके शव को भी कई बार पूरी रात रखा जाता है और अगले दिन अंतिम संस्‍कार किया जाता है। दरअसल, हिंदू धर्म में रात के समय अंतिम संस्‍कार नहीं किया जाता है। इस दौरान शव को अकेला नहीं छोड़ा जाता है। बल्कि परिजन, दोस्‍त-रिश्‍तेदार शव के पास बैठते हैं।

2022 में इन राशियों पर रहेगी शनि की नजर, जानिए अपने बारे में 

इसलिए शव को नहीं छोड़ते अकेला

गरुड़ पुराण में मौत के हर पहलू को लेकर विस्‍तार से बताया गया है। इसमें यह भी बताया गया है कि मृत्‍यु के बाद शव को अकेला नहीं छोड़ना चाहिए। इसके पीछे की वजह भी गरुड़ पुराण में बताई गई है। इसके मुताबिक रात के समय बुरी आत्‍माएं, प्रेत आदि सक्रिय रहते हैं। ऐसे में ये आत्‍माएं मृतक के शरीर में प्रवेश कर सकती हैं और पूरे परिवार के लिए मुसीबत की वजह बन सकती हैं। इसके अलावा मृतक की आत्‍मा भी अपने घर और शरीर के आसपास ही रहती है। जब वो अपने शरीर के पास अपने परिजनों को नहीं देखती है तो उसे कष्‍ट होता है। इसलिए शव को अकेला नहीं छोड़ना चाहिए। तांत्रिक क्रियाएं भी रात में ही की जाती हैं, ऐसे में शव को अकेले छोड़ना मृत व्‍यक्ति की आत्‍मा को बड़ा नुकसान पहुंचा सकता है।

पर्दों का रंग भी डालता हैं आपकी लाइफ पर असर, क्या करें? Vastu Shastra

शव को हो सकता है नुकसान

व्‍यक्ति की मौत के कुछ देर बाद ही शव डीकंपोज होने लगता है। इसके चलते उसके शरीर में कई तरह के कीटाणु पैदा हो जाते हैं। शव से बदबू आने लगती है। ऐसे में कीड़े-मकोड़े या चीटियां शव के पास आकर उसे नुकसान पहुंचा सकते हैं। ऐसी स्थिति से बचने के लिए भी परिजनों को शव के पास रहकर उसका ध्‍यान रखना चाहिए। साथ ही शव के चारों ओर खुशबूदार अगरबत्‍ती जला देना चाहिए। कुछ जगहों पर शव के पास चूने या अन्‍य चीजों से रेखा बना दी जाती है, ताकि शव कीड़े-मकोड़ों से सुरक्षित रहे।

ज्योतिष के चमत्कारी उपाय, फ्री सर्विस और रोचक जानकारी के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर @ganeshavoice1 पर फॉलो करें।

ज्योतिष, धर्म, व्रत एवं त्योहार से जुड़ी ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए  ज्वाइन करें हमारा टेलिग्राम चैनल

Google News पर हमसे जुड़ने के लिए हमें यहां क्लीक कर फॉलो करें।

maheshshivapress
महेश के. शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in