money 1 1
नवरात्रि राशिफल व्रत एवं त्यौहार

शारदीय नवरात्रि : करना है किसी का भी वशीकरण और पाना है धन लाभ तो ये उपाय है आपके लिए dhan labh

dhan labh : क्या आप अपने कारोबार में प्रतिस्पर्धी अथवा आफिस में बाॅस या अन्य को लेकर परेशान हैं। जो आपको किसी न किसी रूप में परेशान करते हैं तो यह उपाय आपके लिए बेहद ही खास है। इस उपाय को आप नवरात्र में करेंगे तो निसंदेह आपको न केवल धन का लाभ होगा बल्कि उन लोगों का वशीकरण भी हो जाएगा जिन्हें आप चाहते हैं कि वह आपके कहे अनुसार कार्य करें।

money 1 1

जीवनसाथी की तलाश हुई आसान! फ्री रजिस्ट्रेशन करके तलाश करें अपना हमसफर

समस्या है तो समाधान भी है, विद्वान ज्योतिषी से फ्री में लें परामर्श

अभी तक हम आपको अपने पिछले आर्टिकल्स में दुर्गा सप्तशती के सात अध्याय के बारे में जानकारी दे चुके हैं। उपाय पर आगे बढने से पहले दुर्गा सप्तशती के आठवें अध्याय का सार बताया जाना बेहद जरूरी है। श्री बालाजी धाम सहारनपुर के संस्थापक गुरू श्री अतुल जोशी जी महाराज बताते हैं कि दुर्गा सप्तशती के आठवें अध्याय में यूं तो देवी के हाथों रक्तबीज का वध होता है, लेकिन यह अध्याय बेहद ही महत्वपूर्ण है।

हाथ में घड़ी पहनते वक्त ये गलतियां तो नहीं करते आप? बढ़ जाएंगी मुश्किलें 

इस अध्याय में बताया गया है कि दैत्यों के नाश के लिए और देवताओं के हित के लिए ब्रह्मा, शिव, कार्तिकेय, विष्णु तथा इंद्र आदि देवों की शक्तियां जो अत्यंत पराक्रम और बल से संपन्न थी, उनके शरीर से निकल कर उसी रूप में चण्डिका देवी के पास गई। जिस देवता का जैसा रूप था, जैसे आभूषण थे और जैसा वाहन था वैसा ही रूप, आभूषण और वाहन लेकर देवताओं की शक्ति दैत्यों से युद्ध करने के लिए आई। जिसके बाद चण्डिका प्रकट हुई। चंण्डिका ने भगवान शंकर को अपना दूत बनाकर शुभ निशुम्भ के पास भेजा था इसलिए वह शिवदूती भी कहलाई।

आखिर नौ दिन के ही क्यों होते हैं नवरात्रि (Navratri) , जानिए इसके पीछे के राज

दुर्गा सप्तशती के इस अध्याय को करने से मानव को धन लाभ की प्राप्ति होती है और व्यक्ति के वशीकरण की शक्ति प्रबल होती है। क्योंकि देवी के जिस रूप का वर्णन यहां किया गया है, देवी का वह रूप सभी देवताओं की शक्तियों से मिलकर बनी है और जिस शक्ति में सभी शक्तियों का समावेश हो, उस देवी का भक्त धन हानि कैसे झेल सकता है। सभी देवताओं की शक्ति का समावेश होने के चलते इस देवी के भक्त की वशीकरण भी प्रबल होता है।

इन लोगों को चमकेगा भाग्य, 11 अक्टूबर से बदल जाएगी शनिदेव Shani Dev की चाल

इस अध्याय को करने के बाद प्रार्थना करें कि देवी मुझे अमुक व्यक्ति को वशीकरण करने की शक्ति प्रदान करें। देवी को भोग अर्पित करने के बाद आरती उतारें और हां देवी से क्षमा याचना करना कदापि न भूलें।

ज्योतिष के चमत्कारी उपाय, फ्री सर्विस और रोचक जानकारी के लिए ज्वाइन करें हमारा टेलिग्राम चैनल

Google News पर हमसे जुड़ने के लिए हमें यहां क्लीक कर फॉलो करें।

ज्योतिष, धर्म, व्रत एवं त्योहार से जुड़ी ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर @ganeshavoice1 पर फॉलो करें।

maheshshivapress
महेश के. शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in