WhatsApp Image 2021 10 12 at 5.06.23 PM 1
धर्म दर्शन राशिफल

Aajab Gajab : इस मंदिर में रात को रुकना मना है, रुकने वाले साथ होती है ऐसी घटना…

Aajab Gajab :  भारत देश मे वैसे तो कई मंदिर और रहस्यमयी जगह हैं, लेकिन आज हम आपको ऐसे मंदिर के बारे में बताएंगे जहां रात में ठहरना बेहद ही खतरनाक है।

WhatsApp Image 2021 10 12 at 5.06.23 PM 1
अजब : इस मंदिर में रात रुकना मना है, रुकने वाले साथ होती है ऐसी घटना…

जीवनसाथी की तलाश हुई आसान! फ्री रजिस्ट्रेशन करके तलाश करें अपना हमसफर

समस्या है तो समाधान भी है, विद्वान ज्योतिषी से फ्री में लें परामर्श

आपको बता दें कि यह मंदिर राजस्थान के बाड़मेर जिले में स्थित है। यह मंदिर किराडू के नाम से जाना जाता है। यह मंदिर पूरे राजस्थान में एक प्रसिद्ध मंदिर है जो मंदिर प्रेमियों को काफी आकर्षित करता है। लेकिन इस मंदिर की खौफनाक सच्चाई यह है कि कोई भी इस मंदिर में रात मे नहीं रुक सकता क्योंकि स्थानीय लोगों की मानें तो इस मंदिर में जो भी कोई रात में रुकता है वह अगले दिन पत्थर बन जाता है।

kanya pujan Time : जानिए कब और कैसे करें कन्या पूजन ? ताकि बरसे मां दुर्गा की कृपा

यह मंदिर बेहद ही खूबसूरत है लेकिन इसका रहस्य बेहद ही खतरनाक है। इस मंदिर के रहस्य के बारे में एक कहानी भी काफी प्रचलित है जिसमें बताया गया है कि एक समय ऐसा था जब इस स्थान पर हमेशा चहल-पहल हुआ करती थी। कहा जाता है कि यहां पर एक सिद्ध संत अपने शिष्यों के साथ ठहरने के लिए आए थे, कुछ दिन रहने के पश्चात संत देश भ्रमण के लिए निकल पडते हैं, वहां के स्थानीय लोगों से संत शिष्यों का ध्यान रखने के लिए कहते हैं l लेकिन अचानक संत के जाने के बाद ही उनके शिष्य बहुत ही बीमार पड़ जाते है।

जानिए क्या है स्वास्तिक की कहानी, भगवान गणेश से जुड़ा है रहस्य 

सिर्फ एक महिला के अलावा और किसी ने भी शिष्यों की कोई भी देखरेख नहीं की। जब संत वापस लौटते हैं तो वह देखते हैं कि मेरे शिष्य तो भूख से तड़प रहे हैं इस पर उन्हें बहुत ही क्रोध आ जाता हैं, वह हाथ में जल भरकर गांव के निवासियों को श्राप देते हैं व कहते हैं कि जहां मानव के अंदर सेवाभाव नहीं है वहां रहना ही बेकार है। उसके बाद संत ने कहा कि शाम होते ही सभी लोग पत्थर के हो जाएंगे और उस महिला को कहा कि तुम इस गांव को छोड़कर चली जाओ, लेकिन जाते समय उस महिला ने उस गांव की तरफ पीछे मुड़कर देखा और वह भी एक पत्थर की मूर्ति बन गई।

Dussehra Pujan Time : 15 अक्टूबर को विजय दशमी, किस मुहूर्त में करें पूजन

कहा जाता है कि उस दिन से लेकर आज तक इस गांव में कोई भी रुकने का प्रयास नहीं करता क्योंकि लोगों की मानें तो जिस किसी ने भी यहां रुकने की कोशिश कि वह अगली सुबह पत्थर का बन गया। हालांकि इस बात पर कितनी सच्चाई है यह कहा नहीं जा सकता लेकिन यह मंदिर आज भी उसी तरह से रहसयमयी बना हुआ है।

ज्योतिष के चमत्कारी उपाय, फ्री सर्विस और रोचक जानकारी के लिए ज्वाइन करें हमारा टेलिग्राम चैनल

Google News पर हमसे जुड़ने के लिए हमें यहां क्लीक कर फॉलो करें।

ज्योतिष, धर्म, व्रत एवं त्योहार से जुड़ी ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर @ganeshavoice1 पर फॉलो करें।

maheshshivapress
महेश के. शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in