rahu
आज का उपाय चमत्कारी उपाय ज्योतिष जानकारी नवग्रह

राहू का सरल और अचूक उपाय अगर राहू लग्न, दुसरे और बारहवे भाव में हो

Result Oriented Remedy जैसा कि आप सभी जानते हो कि राहू एक छाया ग्रह हैं जो अदृश्य रूप से हम पर ऊपर से हमला करता है I लग्न कुंडली के 1-2-12 भाव हमारे शरीर के ऊपरी हिस्से को दर्शाते हैं, बारिश में छाता लिये वक़्त छाता इन्ही हिस्सो को सबसे अधिक बारिश में भीगने से बचाता हैं।

आप भी पा सकते हैं गोरोचन के चमत्कारिक लाभ

प्लास्टिक हमारी सनातन संस्कृति का कभी हिस्सा नहीं रही है साथ ही ये पर्यावरण के लिये भी नुकसानदायक ही हैं। फ़ैशन के इस दौर में और सस्ते के चक्कर में लोग “प्लास्टिक” की “कंघियों” से बाल झाड़ते/सजाते हैं। प्लास्टिक राहू के अधिकारक्षेत्र में आता हैं, और यदि लग्न कुंडली के 1-2-12 वे भाव में स्थित हो तो ऐसे जातकों को और अधिक मानसिक तनाव, निराशा, Depression देता हैं।

आपने सुना होगा कि “राहू के दोष बुध दूर करता है”..इसी कड़ी को यदि आपस में जोड़े तो हमारी “वैदिक संस्कृति” अनुसार हम यदि “देसी नीम” की ‘लकड़ी’ (सर्वश्रेष्ठ) या फिर किसी भी पेड़ की ‘लकड़ी’ की कंघी से बाल झाड़े/सजाये तो इससे हम राहू का बालो से संपर्क तोड़ सकते हैं। “लकड़ी” पर मुख्य रूप से “सूर्यदेव” का आधिपत्य होता हैं सो एक तरह से नीम की लकड़ी से बाल झाड़ने से यहाँ “सूर्य+बुध=”बुधादित्य राजयोग” का भी निर्माण होता हैं,जिससे आपके चेहरे का “तेजस” सदैव निखरते रहता हैं।

Rahu Dosh राहु पाप ग्रह होकर भी देता है शुभ फल, बदल देता है किस्मत

नीम की टहनी तोड़कर किसी “फर्नीचर की दुकान” के मिस्त्री को उसका “मेहनताना” देकर आप आसानी से नीम या लकड़ी की कंघियाँ बनवा सकते हो।

मित्रों मैं आपको वहीं उपाय बताने का प्रयास करता हूँ जो सुलभ,सस्ते हो और आम लोग भी आसानी से कर सके, साथ ही वो उपाय मैंने खुद आजमाये हो। ये एक 101% Result Oriented Remedy हैं। इससे हम चीनी या प्लास्टिक कंघियों” की कमर तोड़कर देसी लकड़ियों के छोटे व्यापारियों की भी अप्रत्यक्ष रूप से आर्थिक मदद कर सकते हैं।

कैसे जाने कौन सा ग्रह आपके जीवन को प्रभावित कर रहा है और क्या हैं उसके उपाय ?

maheshshivapress
महेश के. शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in