Grah parivartan

कब चमकेगी आपकी किस्मत, जानें भाग्य चमकाने के उपाय Jyotish Jankari

Jyotish Jankari : आज की व्यस्त दुनिया (Jyotish Jankari) में लोग सफलता के लिए दिन-रात मेहनत करते हैं। हर कोई चाहता है कि (Jyotish Jankari) उसकी मेहनत रंग लाए, मान सम्मान, धन और समृद्धि मिले, (Jyotish Jankari) उसकी मनोकामना पूरी हो और जीवन में किसी चीज की कमी न हो। साथ ही, लोग चाहते हैं कि जीवन में कोई दुख न हो और हर कदम पर भाग्य का साथ मिले।

Jyotish Jankari

हम अक्सर अपने आस-पास ऐसे लोगों को देखते हैं जो जीवन भर कड़ी मेहनत करते हैं। इसके बावजूद उन्हें संघर्ष का सामना करना पड़ता है। छोटी-छोटी ख्वाहिशें भी पूरी नहीं कर पाते। इसके विपरीत कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो कम मेहनत के बावजूद अपने सपनों और इच्छाओं को आसानी से पूरा कर लेते हैं। ऐसा लगता है कि भगवान स्वयं उनके लिए हैं। दोनों ही स्थितियों में एक चीज है जो जीवन में सफलता या असफलता की ओर ले जाती है, वह है उनकी कुंडली में 9 ग्रहों की स्थिति का प्रभाव।

Jyotish Jankari
Jyotish Jankari

हाँ! ज्योतिष के अनुसार किसी व्यक्ति को सफलता या दुख प्रदान करने में ग्रह प्रमुख भूमिका निभाते हैं। कुंडली के किस भाव में कौन सा ग्रह मौजूद है? यह ग्रह किस भाव या ग्रह पर दृष्टि कर रहा है? इस जानकारी का समावेश जातक को शुभ और अशुभ फल देने का कारण होता है। आइए जानते हैं-

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सभी 12 भाव जातक को विभिन्न फल देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। लेकिन कुंडली का नवम भाव व्यक्ति के भाग्य के बारे में बहुत कुछ बता सकता है, क्योंकि नवम भाव भाग्य का भाव होता है। तो, नौवें घर में मौजूद ग्रह और इस घर को देखने वाले ग्रह किसी व्यक्ति के भाग्य के समय और अवधि के बारे में बता सकते हैं। इस भाव पर कुछ ग्रहों का प्रभाव कुछ जातकों को कम उम्र से ही अनुकूल भाग्य देने का काम करता है, जबकि कुछ ग्रह 35 वर्ष की आयु के बाद कुछ जातकों के भाग्य चमकते हैं।

गर्मी में तुलसी को सूखने से बचाने के लिए उपाय Tulsi Summer Care

नवम भाव में चमकेगा आपका भाग्य
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जिस भाव में नवम भाव का स्वामी स्थित हो उसे देखने से ही जातक का भाग्य प्रभावित होता है। वहीं नवम भाव में स्थित ग्रह व्यक्ति के लिए धन, सुख और समृद्धि की अवधि की गणना के लिए जिम्मेदार होते हैं। यह स्पष्ट रूप से बता सकता है कि ‘किसी व्यक्ति की किस्मत कब चमकेगी’ । आइए बिना देर किए जानें कि कौन सी स्थितियां निश्चित रूप से आपकी किस्मत चमकाती हैं।

Jyotish Jankari
Jyotish Jankari

आपकी किस्मत कब चमकेगी?

ज्योतिषियों के अनुसार जब बृहस्पति नवम भाव यानि किसी कुंडली के भाग्य भाव में स्थित हो तो यह स्थिति जातक के भाग्य को मात्र 16 वर्ष की आयु में ही चमका देती है।

यदि किसी कुंडली में सभी ग्रहों का राजा सूर्य नवम भाव में स्थित हो तो ऐसे जातक का भाग्य 22 वर्ष की आयु में चमकता है।

जब चंद्रमा नवम भाव में होता है तो 24 वर्ष की आयु में भाग्य चमकाता है।

जन्म कुंडली के नवम भाव में शुक्र की उपस्थिति का अर्थ है कि 25 वर्ष की आयु में भाग्य चमकेगा।

नवम भाव में स्थित मंगल का अर्थ है कि 28 वर्ष की आयु में जातक के लिए सौभाग्य की संभावना बढ़ जाएगी।

नवम भाव में स्थित बुध 32 वर्ष की आयु में अनुकूल भाग्य का संकेत देता है।

यदि कर्म का कारक शनि नवम भाव में स्थित हो तो 36 वर्ष की आयु में भाग्य लाता है।

जबकि नवम भाव में छाया ग्रह राहु और/या केतु की उपस्थिति 42 वर्ष की आयु में व्यक्ति के लिए सौभाग्य की संभावना लेकर आती है।

सावधान हो जाएं इन राशियों के लोग, सूर्य देंगे मुसीबतें! Sun Transit

इन स्थितियों में भी चमकता है व्यक्ति का भाग्य

जब किसी कुंडली में कर्म, शनि या गुरु वक्री होकर नवम भाव में स्थित हो तो इस गति के दौरान ये ग्रह जातक के भाग्य को चमकाते हैं और शुभ फल देते हैं।

जब किसी कुंडली में अधिकतर ग्रह तीसरे या दशम भाव में होते हैं तो ऐसे जातक भाग्यशाली भी माने जाते हैं। क्योंकि ऐसे जातक जीवन में जल्दी सफलता प्राप्त कर लेते हैं।

यदि किसी कुंडली में शनि के अगले भाव में बृहस्पति मौजूद हो तो यह स्थिति व्यक्ति को 21 या 22 वर्ष की कम उम्र में ही आत्म निर्भर बना देती है और आर्थिक अवसरों के द्वार खोल देती है।

यदि किसी कुण्डली में गुरु मेष राशि में, मंगल अपनी उच्च राशि मकर राशि में तथा शुक्र धनु राशि में नवम भाव में स्थित हो तो ऐसा जातक अपने करियर में महान ऊंचाइयों को प्राप्त करता है। ऐसे लोगों को जीवन में कभी भी सुख की कमी का सामना नहीं करना पड़ता है।

यदि सूर्य और चन्द्रमा कर्क यानि कुंडली के चौथे भाव में हों, शुक्र वृश्चिक यानि अष्टम भाव में हो और मंगल कुम्भ यानि एकादश भाव में हो, कोई भी लग्न हो तो ऐसे जातक सुख की प्राप्ति करते हैं। जीवन के हर पहलू में सफलता।

Jyotish Jankari
Jyotish Jankari

कब है गुरु पूर्णिमा, जानें तिथि, शुभ मुहूर्त और महत्व Guru Purnima 2022

भाग्य चमकाने के उपाय

अपनी किस्मत को मजबूत करने के लिए सबसे पहले देखें कि आपकी कुंडली के नवम भाव में कौन से ग्रह मौजूद हैं और फिर आपको उन ग्रहों को मजबूत करने के उपाय करने चाहिए। ऐसा करने से आपके सौभाग्य की राह में आने वाली बाधाएं काफी हद तक दूर हो जाएंगी।

आपकी कुंडली में देखें कि नवम भाव में बैठे ग्रह शुभ या अशुभ ग्रहों की श्रेणी में आते हैं या नहीं। यदि वह ग्रह शुभ ग्रह है तो उसे मजबूत करने के उपाय अवश्य करें। लेकिन यदि ग्रह पाप ग्रह की श्रेणी में हो तो उसे शांत करने के उपाय करें। ज्योतिष के अनुसार सूर्य, चंद्र, बुध, बृहस्पति और शुक्र चार शुभ ग्रह हैं, जबकि मंगल, शुक्र, शनि, राहु, केतु को अशुभ ग्रह माना जाता है।

अपने भाग्य को चमकाने के लिए, प्रतिदिन सूर्योदय के समय सूर्य के सामने गायत्री मंत्र का जाप पूर्व की ओर मुख करके रुद्राक्ष की माला से करना चाहिए।

अपने बड़ों और माता-पिता को कभी चोट न पहुंचाएं। बल्कि रोज सुबह उठकर माता-पिता, अन्य बड़ों और शिक्षकों के पैर छूकर उनका आशीर्वाद लें। ऐसा करने से आपको जल्द ही सौभाग्य की प्राप्ति होगी।

समय-समय पर धार्मिक स्थलों पर जरूरतमंदों, विकलांगों, गौशालाओं, अनाथालयों आदि में दान-पुण्य करने से भी आपके भाग्य में वृद्धि होगी। भूल से भी सूर्यास्त के बाद किसी को उधार लेने और उधार देने से बचें। नहीं तो आपको भाग्योदय होने में समय लग सकता है।

ज्योतिष के चमत्कारी उपाय,  व्रत एवं त्योहार फ्री सर्विस और रोचक जानकारी के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर @ganeshavoice1 पर फॉलो करें।

ज्योतिष, धर्म, व्रत एवं त्योहार से जुड़ी ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए  ज्वाइन करें हमारा टेलिग्राम चैनल

Google News पर हमसे जुड़ने के लिए हमें यहां क्लीक कर फॉलो करें।

Good Time Sign अच्‍छे दिन आने से पहले मिलने लगते हैं ऐसे संकेत Couple love tips : Sindoor astrology Tips : कपल में प्रेम बढ़ाते हैं सिंदूर के ये सरल उपाय Easy Ways to get the job you want : मनचाही नौकरी पाने के आसान उपाय Buri Nazar Ke Upay (evil eye) बुरी नजर से बचने के लिए बहुत कारगर हैं ये उपाय