chhath puja 2021 1 ganeshavoice.in छठ पूजा कब है? नहाय खाय, खरना और सूर्य पूजन का शुभ मुहूर्त : Chhath Puja 2021
राशिफल व्रत एवं त्यौहार

छठ पूजा कब है? नहाय खाय, खरना और सूर्य पूजन का शुभ मुहूर्त : Chhath Puja 2021

Chhath Puja 2021 : दीवाली संपन्न होते ही अब छठ पूजा (chhath puja 2021) की तैयारी शुरु हो गई है। वैसे तो यह पर्व बिहार, पूर्वी यूपी और झारखंड में प्रमुख रुप से मनाया जाता है। लेकिन इन राज्यों से निकल कर दूसरे राज्यों में बसे श्रद्धालु भी उतने ही उत्साह के साथ मनाते हैं, जितने उत्साह से यह पर्व बिहार और दूसरे अन्य राज्यों में मनाया जाता है। कार्तिक माह की षष्ठी को छठ पूजा पर्व (chhath puja 2021) मनाया जाता है।

chhath puja 2021 1 ganeshavoice.in छठ पूजा कब है? नहाय खाय, खरना और सूर्य पूजन का शुभ मुहूर्त : Chhath Puja 2021

जीवनसाथी की तलाश हुई आसान! फ्री रजिस्ट्रेशन करके तलाश करें अपना हमसफर

समस्या है तो समाधान भी है, विद्वान ज्योतिषी से फ्री में लें परामर्श

पौराणिक कथाओं के मुताबिक छठी मैया को ब्रह्मा की मानसपुत्री और भगवान सूर्य की बहन माना गया है। छठी मैया निसंतानों को संतान प्रदान करती हैं। इसके अलावा संतानों की लंबी आयु के लिए महिलाएं यह पूजा करती हैं।

पौराणिक कथाओं के मुताबिक भगवान श्रीकृष्ण ने उत्तरा को यह व्रत रखने और पूजा करने की सलाह दी थी। दरअसल महाभारत के युद्ध के बाद अभिमन्यु की पत्नी उत्तरा के गर्भ में पल रहे बच्चे का वध कर दिया गया। तब उसे बचाने के लिए भगवान श्रीकृष्ण ने उत्तरा को षष्ठी व्रत (छठ पूजा) का रखने के लिए कहा।

जब सपने में दिखाई दे आपकी प्रेमिका Girl friend तो आपके साथ हो सकता है ऐसा

छठ पूजा का शुभ मुहूर्त

हिंदू पंचांग के मुताबिक छठ पूजा कार्तिक माह की षष्ठी से शुरू हो जाता है। यह पर्व चार दिनों चलता है। इस साल छठ पूजा 8 नवंबर से शुरू हो रहा है।
इसके अगले दिन यानी 9 नवंबर को दिन खरना, 10 नवंबर को सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा और अंत में 11 नवंबर की सुबह सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही यह पर्व समाप्त हो जाएगा। इस त्योहार का नियम सख्त है। व्रत करने वाली महिलाएं 36 घंटे तक निर्जला व्रत रखती हैं। इसके अलावा पूजा स्थल को गोबर से लीपा जाता है।

इन उपायों को करने से दूर होता है बुरा वक्त, होता है सब अच्छा : Astro Tips

नहाय खाय
चार दिनों तक चलने वाले इस त्योहार का पहला दिन नहाय खाय होता है। व्रत रखने वाली महिलाएं इस दिन चने की सब्जी, चावल और साग का सेवन करती हैं।

खरना
छठ पूजा का दूसरा दिन खरना होता है। इस दौरान महिलाएं पूरे दिन निर्जला व्रत रखती हैं। शाम के वक्त गुड़ से बनी खीर खायी जाती है। सूर्य को अर्घ्य देने के बाद ही व्रत रखने वाली महिलाएं प्रसाद ग्रहण करती हैं।

इन नाम की लड़कियां होती हैं बहुत भाग्यशाली, धन का बना रहता है आवागमन

तीसरा दिन
छठ पूजा का तीसरा दिन खास होता है। इस दिन महिलाएं शाम के समय नदी या तालाब के पास जाकर छठी मैया की पूजा और सूर्यास्त के समय भगवान सूर्य को अर्घ्य देती हैं।

अंतिम दिन
छठ पूजा के चौथे दिन महिलाएं सुबह के समय नदी या तालाब के पास जाती हैं और पानी में उतरकर भगवान सूर्य को अर्घ्य देती है। अर्घ्य देने के बाद व्रती महिलाए सात या ग्यारह बार अपने स्थान पर परिक्रमा करती हैं। इसके बाद एक-दूसरे को प्रसाद देकर अपना व्रत खोलती हैं।

ज्योतिष के चमत्कारी उपाय, फ्री सर्विस और रोचक जानकारी के लिए ज्वाइन करें हमारा टेलिग्राम चैनल

Google News पर हमसे जुड़ने के लिए हमें यहां क्लीक कर फॉलो करें।

ज्योतिष, धर्म, व्रत एवं त्योहार से जुड़ी ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर @ganeshavoice1 पर फॉलो करें।

maheshshivapress
महेश के. शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in