Pitru Amavasya 2022

पितृ पक्ष का आखिरी दिन आज, पितरों को दें इस तरह विदाई Pitru Amavasya 2022

Pitru Amavasya 2022: हिंदू धर्म में पितर पक्ष का विशेष महत्व है. (Pitru Amavasya 2022) कहते हैं कि इन 16 दिनों में पितरों का स्मरण कर उनका पिंडदान, तर्पण आदि किया जाता है. इससे उनकी आत्मा तृप्त होकर वापस लौटती है और वंशजों को खूब सारा आशीर्वाद देते हैं.  (Pitru Amavasya 2022) आज यानी अमावस्या के दिन पितृ पक्ष का आखिरी दिन होता है.इसे सर्व पितृ अमावस्या या फिर महालय अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है. कहते हैं कि जिन पितरों की तिथि ज्ञात नहीं होती, उन सभी का श्राद्ध अमावस्या के दिन किया जाता है.

Pitru Amavasya 2022

Pitru Amavasya 2022
Pitru Amavasya 2022

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इसे पितृ विसर्जन अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है. कहते हैं कि इस दिन पितरों को विदाई देकर विदा किया जाता है. इस बार पितृ पक्ष की अमावस्या 25 सितंबर, रविवार के दिन की पड़ रही है. इस दिन ब्राह्मण भोज कराकर दान-पुण्य किया जाता है. आइए जानते हैं इस दिन पितरों को कैसे विदाई दी जाती है.

सर्व पितृ अमावस्या पर यूं दें पितरों को विदाई

पितृ पक्ष के 15 दिन जो लोग पितरों के निमित्त श्राद्ध, तर्पण आदि नहीं कर पाते, वे लोग सर्व पितृ अमावस्या के दिन पितरों को विदाई देते हैं. इसके अलावा, जिन लोगों को पितरों की मृत्यु तिथि ज्ञात नहीं होती, उन सभी का श्राद्ध अमावस्या तिथि पर किया जाता है. इस दिन पितरों की आत्मा को शांति देने और उनकी कृपा पाने के लिए गीता के दसवें अध्याय का पाठ उत्तम माना गया है.

Pitru Amavasya 2022
Pitru Amavasya 2022

ज्योतिषीयों का कहना है कि अमावस्या तिथि के श्राद्ध में पूरी और खीर आवश्य होनी चाहिए. भोजन ब्रह्मामण को दोपहर के समय कराना चाहिए. इससे पहले पंचबली भोग और हवन जरूर कर लें उसके बाद ही ब्रह्मण भोज कराएं.इस दौरान उनका तिलक करें, उन्हें दक्षिणा देकर विदा करें. इसके बाद घर के सभी सदस्य साथ में भोजन करें और पितरों की आत्मा की शांति के लिए पूजा करें.

कुत्ता ऐसी हरकत करते दिखाई दे तो मिलने वाला है छप्पर फाड़ पैसा Astro Tips for Dog

Pitru Amavasya 2022
Pitru Amavasya 2022

इस दिन करें ये उपाय

मान्यता है कि अमावस्या तिथि पर पीपल की पूजा और सेवा करने से पितर प्रसन्न होते हैं. सर्व पितर अमावस्या पर पितरों का आशीर्वाद पाने के लिए स्टील के लोटे में दूध, पानी, काले तिल, शहद और जौ मिलकर जड़ में अर्पित करें. साथ ही सफेद मिठाई, एक नारियल, कुछ सिक्के और एक जनेऊ को पीपल की जड़ में रखें. इस दौरान ‘ॐ सर्व पितृ देवताभ्यो नमः’ मंत्र का उच्चारण करते रहें.

ज्योतिष के चमत्कारी उपाय,  व्रत एवं त्योहार फ्री सर्विस और रोचक जानकारी के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर @ganeshavoice1 पर फॉलो करें।

ज्योतिष, धर्म, व्रत एवं त्योहार से जुड़ी ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए  ज्वाइन करें हमारा टेलिग्राम चैनल

Google News पर हमसे जुड़ने के लिए हमें यहां क्लीक कर फॉलो करें।