Solar Eclipse 2022

Solar Eclipse: दीपावली पर सूर्य ग्रहण! क्या नहीं मनेगा त्योहार Solar Eclipse 2022

Solar Eclipse on Diwali 2022: दीपावली के अवसर पर ही सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) पड़ रहा है, इस वर्ष का यह पहला सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) है, जो भारत में भी दिखेगा. सूर्यग्रहण और दीपावली के एक साथ मनाए (Solar Eclipse) जाने को लेकर लोगों में भ्रम और शंका पैदा हो गई है कि इस बार दीपावली मनाएंगे या नहीं. शुभ और लक्ष्मी के प्रतीक गणेश और लक्ष्मी का पूजन होगा या नहीं और होगा भी तो कब होगा.

ये ऐसे सवाल हैं, जो लोगों को परेशान कर रहे हैं. आइए इस लेख को पढ़िए, जिसमें इस तरह के सभी सवालों के जवाब और शंकाओं का निवारण है. लेख में हम सूर्यग्रहण की तिथि और समय के साथ ही यह भी बताएंगे कि इस अवधि में आपको क्या करना है और क्या नहीं करना है.

Solar Eclipse on Diwali 2022

Solar Eclipse 2022
Solar Eclipse 2022

चौतरफा सफलता पाते हैं इन तारीखों में जन्‍मे बच्‍चे, बनते हैं बड़े लीडर! Number Astrology

24 अक्टूबर को मनाई जाएगी दीपावली

इस बार आप दीपावली भी मनाएंगे और दीपों से अपने घर को सजाने के साथ प्रथम पूज्य गणेश जी और धन की देवी लक्ष्मी जी का पूजन कर सुख-शांति धन ऐश्वर्य आदि की कामना भी करेंगे. सभी जानते हैं कि दीपावली का पर्व कार्तिक मास में कृष्ण पक्ष की अमावस्या को होता है. इस बार कार्तिक मास कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी 24 अक्टूबर की शाम 4.44 बजे तक रहेगी और इसके बाद अमावस्या लग जाएगी. इस तरह आप 24 अक्टूबर को दीपावली मना सकेंगे और नरक चतुर्दशी भी मनाएंगे.

Solar Eclipse 2022
Solar Eclipse 2022

खंडग्रास सूर्यग्रहण 25 अक्टूबर को होगा

खंडग्रास सूर्यग्रहण कार्तिक कृष्ण पक्ष की अमावस्या यानी कि 25 अक्टूबर 2022 मंगलवार को होगा. एक बात समझने की है कि ग्रहण कोई भी हो, इसे लेकर भयभीत होने की जरूरत नहीं है. इसे तो सिद्धियों का महापर्व माना जाता है, इसलिए ऋषि इसे सिद्धिकाल कहते थे. भगवान श्रीराम ने गुरु वशिष्ठ और श्रीकृष्ण ने संदीपन गुरु से ग्रहण काल में ही दीक्षा ली थी. शास्त्रों के अनुसार, सूर्यास्त के बाद पड़ने वाला सूर्यग्रहण बहुत प्रभावी नहीं रहता है.

Solar Eclipse 2022
Solar Eclipse 2022

भारत सहित इन देशों में रहेगा प्रभावी

भारतीय समय के अनुसार ग्रहण का स्पर्श दिन में 4:31 बजे होगा, मध्य 5:14 बजे एवं मोक्ष 5:57 बजे होगा. इसका सूतक भारतीय समय अनुसार प्रातः 4:31 बजे से प्रारंभ होगा. ग्रहण स्वाति नक्षत्र और तुला राशि पर है, इसलिए इस नक्षत्र और राशि वालों को रोग, पीड़ा , कष्ट रहेगा. इस नक्षत्र एवं राशि वालों को ग्रहण का दर्शन नहीं करना चाहिए.

यह ग्रहण भारत सहित ग्रीनलैंड, स्वीडन, नॉर्वे , यूनाईटेड किंगडम, फ्रांस, जर्मनी, स्पेन, यमन, ओमान, सऊदी अरब, इजिप्ट, इटली, पोलैंड, रोमानिया, ऑस्ट्रिया, ग्रीस, टर्की, इराक, ईरान, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, उत्तरी एवं पश्चिमी श्रीलंका, मॉस्को, पश्चिमी रूस, नेपाल व भूटान में दिखेगा.

ज्योतिष के चमत्कारी उपाय,  व्रत एवं त्योहार  और रोचक जानकारी के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर @ganeshavoice1 पर फॉलो करें।

ज्योतिष, धर्म, व्रत एवं त्योहार से जुड़ी ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए  ज्वाइन करें हमारा टेलिग्राम चैनल

Google News पर हमसे जुड़ने के लिए हमें यहां क्लीक कर फॉलो करें।