Shani Ast 2022
नवग्रह रावण संहिता राशिफल

Shanidev शनिदेव क्यों चलते हैं मंद गति? रावण के साथ जुड़ा है किस्‍सा

Shanidev : सभी नौ ग्रहों में सबसे धीमी चाल शनिदेव की होती है। यही कारण है कि किसी एक राशि में शनि ढाई साल तक रहता है, जिसे शनि की ढैय्या कहते हैं। शनिदेव आखिर इतनी धीमी चाल क्यों चलते हैं? शनिदेव की धीमी चाल के बारे में शास्त्रों बताया गया है। दरअसल शनिदेव की धीमी चाल का कनेक्शन रावण के क्रोध से है। जानते हैं शनिदेव की धीमी चाल के रहस्य के बारे में…

Shanidev ki chal
Shanidev ki chal

जीवनसाथी की तलाश हुई आसान! फ्री रजिस्ट्रेशन करके तलाश करें अपना हमसफर

सभी राशियों का वार्षिक राशिफल 2022 पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पुत्र को दीर्घायु बनाना चाहता था रावण
कहते हैं कि रावण ज्योतिष शास्त्र के साथ साथ धर्म के विषयों का बहुत जानकार था। रावण अपने पुत्र मेघनाद को दीर्घायु बनाना चाहता था। जब मेघनाद अपनी माता के गर्भ में था तो मंदोदरी ने रावण से इच्छा जताई कि उसका नवजात ऐसे नक्षत्र में पैदा हो, जिससे की वह पराक्रमी, कुशल योद्धा और तेजस्वी बन सके।

cheeni ke upay एक चम्मच चीनी पैसों समेत बनाएगी सभी बिगड़े काम

रावण से भयभीत रहते थे सभी ग्रह-नक्षत्र
रावण से सभी ग्रह-नक्षत्र भयभीत रहते थे। इसलिए उसने सभी ग्रह-नक्षत्रों को आदेश दिया कि उसके पुत्र के जन्म के समय शुभ दशा में रहे। रावण के आदेश पर सभी ग्रह शुभ स्थिति में आ गए, लेकिन शनिदेव ने रावण के इस आदेश को नहीं माना। रावण को इस बात की जानकारी थी कि शनिदेव आयु की रक्षा करते हैं। साथ ही वह यह भी जानता था कि शनिदेव इतनी आसानी से उसकी बात मानने वाले नहीं हैं।

2022 इन राशि वालों को हो सकता है जबरदस्त धनलाभ Rahu ka Gochar

रावण ने किया गदा शनिदेव के पैर पर प्रहार
रावण अपनी शक्तियों का प्रयोग करते हुए शनिदेव को भी इस स्थिति में रखा, जिससे कि उसके पुत्र दीर्घायु हो सके। हालांकि शनिदेव रावण की मनचाही स्थिति में तो रहे, लेकिन मेघनाद के जन्म के समय उन्होंने अपनी दृष्टि वक्री कर ली। जिस कारण मेघनाद अल्पायु हो गया। कहते हैं कि शनि की इस हरकत से रावण क्रोधित हो गया और अपनी गदा से शनि के पैर पर प्रहार किया। तभी से शनिदेव लंगड़ाकर चलने के लिए बाध्य हो गए। यही कारण है कि शनि की चाल धीमी होती है।

ज्योतिष के चमत्कारी उपाय,  व्रत एवं त्योहार फ्री सर्विस और रोचक जानकारी के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर @ganeshavoice1 पर फॉलो करें।

ज्योतिष, धर्म, व्रत एवं त्योहार से जुड़ी ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए  ज्वाइन करें हमारा टेलिग्राम चैनल

Google News पर हमसे जुड़ने के लिए हमें यहां क्लीक कर फॉलो करें।

maheshshivapress
महेश के. शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in