haldi 1 ganeshavoice.in क्या आपको पता है मुस्लिम दूल्हा दुल्हन को भी लगाई जाती है हल्दी, लेकिन क्यों ? Muslim bride groom
एस्ट्रो न्यूज राशिफल

क्या आपको पता है मुस्लिम दूल्हा दुल्हन को भी लगाई जाती है हल्दी, लेकिन क्यों ? Muslim bride groom

Muslim bride groom : हल्दी (turmeric) बड़े काम की चीज होती है। दूध में मिलाकर पीओ तो शरीर का बदन दूर कर देते है और चूने में मिलाकर लगाओ तो जख्म भर देती है। हल्दी (turmeric) को मसालों के साथ साथ अन्य वैदिक रीति रिवाजों, पूजा पाठ में प्रयोग किया जाता है। हिंदू धर्म में जब किसी लड़के (Boy) या लड़की  (Girl) की शादी (marriage) होती है तो शादी से एक या दो दिन पहले हल्दी (turmeric) लगाई जाती है। इसे हलद बान की रस्म बोला जाता है, जो प्रत्येक परिवार में अदा की जाती है, लेकिन क्या आपको पता है कि मुसलमानों में भी दूल्हा दूल्हन ( bride -groom) को हल्दी (turmeric) लगाई जाती है और क्यों लगाई जाती है।

haldi 1 ganeshavoice.in क्या आपको पता है मुस्लिम दूल्हा दुल्हन को भी लगाई जाती है हल्दी, लेकिन क्यों ? Muslim bride groom

जीवनसाथी की तलाश हुई आसान! फ्री रजिस्ट्रेशन करके तलाश करें अपना हमसफर

समस्या है तो समाधान भी है, विद्वान ज्योतिषी से फ्री में लें परामर्श

हिंदुओं में शादी से पहले दूल्हा-दुल्हन को हल्दी लगाई जाती है और इसके लिए बाकायदा रस्‍म होती है। ऐसा करने के पीछे धार्मिक और वैज्ञानिक दोनों ही कारण हैं। दरअसल, विश्व के पालनहार भगवान विष्‍णु को हल्‍दी बहुत प्रिय है। उनकी पूजा में हल्‍दी का अनिवार्य तौर पर उपयोग होता है इसलिए हल्‍दी को बेहद शुभ माना है। इसके अलावा सुखद वैवाहिक जीवन के लिए गुरु ग्रह का शुभ होना जरूरी है और हल्‍दी का संबंध गुरु से है। मान्‍यता है कि दूल्‍हा-दुल्‍हन का हल्‍दी लगाने से नव दंपत्ति का आगामी जीवन शुभ और सुखद होगा।

आटे के इन उपायों से जमकर आएगा रुपया पैसा, चमक सकती है किस्मत 

वैज्ञानिक नजरिए से बात करें तो हल्‍दी एंटी बायोटिक होती है और कई तरह के इंफेक्‍शन से बचाव करती है। यह चेहरे की खूबसूरती भी निखारती है। इसलिए दूल्‍हा-दुल्‍हन को शादी से पहले हल्‍दी का उबटन लगाया जाता है।

2022 में शनि किसी करेंगे मालामाल और किसे करेंगे बेहाल, जानिए अभी 

अब आपको बता दें कि मुस्लिम समुदाय में भी शादी से पहले दूल्हा दुल्हन को हल्दी लगाई जाती है। इसके लिए बाकायदा रस्‍म होती है। मुसलमानों में इस रस्‍म को मायो कहते हैं। इसमें दुल्‍हन को पीले रंग के कपड़े और फूलों के गहनें पहनाए जाते हैं। फिर उसे हल्‍दी और मेहंदी लगाई जाती है। इसी तरह दूल्‍हे की भी ये रस्‍में होती हैं। मुसलमानों में मायो की रस्‍म शादी से 2-3 दिन पहले की जाती है।

ज्योतिष के चमत्कारी उपाय, फ्री सर्विस और रोचक जानकारी के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर @ganeshavoice1 पर फॉलो करें।

ज्योतिष, धर्म, व्रत एवं त्योहार से जुड़ी ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए  ज्वाइन करें हमारा टेलिग्राम चैनल

Google News पर हमसे जुड़ने के लिए हमें यहां क्लीक कर फॉलो करें।

maheshshivapress
महेश के. शिवा www.ganeshavoice.in के मुख्य संपादक हैं। जो सनातन संस्कृति, धर्म, संस्कृति और हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतें हैं। इन्हें ज्योतिष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।
http://ganeshavoice.in